Surya Grahan 2021: सूर्य ग्रहण 2021 – जानें राशियों पर होने वाले प्रभाव


Share on :

 

सूर्य ग्रहण विभिन्न प्रकार के होते हैं जैसे आंशिक और पूर्ण सूर्य ग्रहण। हर साल लगभग 2 से 5 सूर्य ग्रहण होते हैं। हिंदू मान्याताओं सहित दुनिया के कई संप्रदायों में ग्रहण को शुभ अथवा अशुभता के साथ जोड़कर देखा गया है। इसी आधार पर चंद्रमा और सूर्य ग्रहण को अलग अलग संबंधों से जोड़कर देखा गया है जैसे कि जब चंद्र ग्रहण होता है तो मन, आत्मा प्रभावित होती है। वहीं जब सूर्य ग्रहण होता है, तो शरीर और अन्य सभी बाहरी परिवेश प्रभावित होते हैं। आज हम बात कर रहे हैं आने वाले सूर्य ग्रहण 2021 की।
इस साल 2021 सूर्य ग्रहण वैशाख अमावस्या के दिन गुरुवार 10 जून 2021 को लगेगा। यह वृष राशि और मृगशीर्ष नक्षत्र में होगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण 2021 भारत में दिखाई नहीं देगा।

यह सूर्य ग्रहण 2021 उत्तरी अमेरिका, यूरोप, एशिया के उत्तरी क्षेत्रों से दिखाई देगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण 2021 उत्तरी कनाडा, ग्रीनलैंड और रूस में भी दिखाई देगा। इस ग्रहण की परिमाण 0.943 है, और स्थिरता 3 मिनट 48 सेकंड की होगी।
 

सूर्य ग्रहण 2021 का समय

– ग्रहण की शुरुआत – 1 बजकर 42 मिनट 22 सेकंड
 

10 जून 2021 के दौरान पालन किए जाने वाले नियम

जब सूर्य ग्रहण 2021 शुरू हो, तो स्नान करें और मंत्रों का जाप करें। ग्रहण के मध्य भाग में अग्नि के सामने भगवान को पूजा सामग्री अर्पण करें और उसके बाद पूजा करें। ग्रहण के अंत में आपको फिर से स्नान करना चाहिए।
सूर्य ग्रहण 2021 शुरू होने से कम से कम 12 घंटे पहले से उपवास करना चाहिए। रोगियों, वृद्ध लोगों और छोटे बच्चों के लिए ग्रहण के प्रारंभ से अंत तक उपवास पर्याप्त है। ग्रहण काल में छोटा सा दान भी शुभ माना जाता है। आपकी क्षमता जो कुछ भी अनुमति देती है वह दान करें। प्रत्येक जल को पवित्र गंगा जल माना जाता है, और प्रत्येक ब्राह्मण को ब्रह्मा के समान माना जाता है। सूर्य ग्रहण के दौरान किया गया दान 10 लाख गुना लाभ दे सकता है। लड़के का जन्म, प्रसिद्धि और विवाह, मृत्यु, राहु दर्शन, सूर्य ग्रहण के दौरान शाम का स्नान आवश्यक और पवित्र है, इसके अलावा शाम का दान निषिद्ध है। जन्म नक्षत्र पर सूर्य ग्रहण से रोग, आर्थिक तंगी और धन हानि का भय होता है। उनकी शांति और समृद्धि के लिए सूर्य से संबंधित चीजों का दान करें।
 

सूर्य ग्रहण का सूतक काल

जन्म नक्षत्र पर और पैरों के ऊपर सूर्य ग्रहण से मृत्यु कठिनाइयाँ, घाटा, शत्रु का भय, कुष्ठ रोग की परीक्षा हो सकती है। इनसे और इनकी शांति के लिए गाय का दान, स्वर्ण दान और गायत्री अनुष्ठान की सलाह दी जाती है। गायों को चारा खिलाने की भी सलाह दी जाती है। सूर्य ग्रहण का प्रभाव रात के समय सक्रिय नहीं होता है, इसलिए स्नान और दान की कोई आवश्यकता नहीं है। भले ही सूर्य ग्रहण 2021 अस्पष्ट है, लेकिन परिणाम और प्रभाव समान हैं। सूर्य ग्रहण से 12 घंटे पहले का समय अशुभ माना जाता है। इसे सूर्य ग्रहण का सूतक काल भी कहा जाता है। अगर आप इस दौरान कुछ भी खाने से परहेज करते हैं तो इससे मदद मिलेगी। ग्रहण की समाप्ति के बाद स्नान करने और फिर भोजन करने की सलाह दी जाती है। सूर्य ग्रहण से पहले अशुभ समय के दौरान मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं। यदि सूर्य ग्रहण 2021 एक अस्पष्ट ग्रहण है, तो आपको स्नान करना चाहिए और फिर दूसरे दिन भोजन करना चाहिए। यदि आप मंत्र, दान या जाप करना भूल जाते हैं, तो भी यह अनुकूल परिणाम दे सकता है। ग्रहण से प्रभावित भोजन को त्यागने का प्रयास करें। दूध, दही और छाछ में तिल या दूर्वा (एग्रोस्टिस लीनियरिस) डालने से यह खराब होने से बचाता है।
 
 
ग्रहण के दौरान स्नान करने से आपके पाप धुल जाते हैं और गंगा, जमना और सरस्वती जैसी झीलों, नदियों में स्नान करने से 10-10 गुना अधिक पुण्य मिलता है। हरिद्वार, गया, कुरुक्षेत्र और गंगासागर में स्नान करना सबसे उत्तम है। ऐसा कहा जाता है कि इससे कई जन्मों के पाप धुल जाते हैं और पुण्य की प्राप्ति होती है। रोहिणी और मृगशीर्ष नक्षत्र में इस सूर्य ग्रहण 2021 के एक दिन पहले और एक दिन बाद विवाह जैसे किसी भी शुभ आयोजन से बचना चाहिए। इस नक्षत्र में अगले छह माह तक कोई शुभ मुहूर्त नहीं देना चाहिए। आप उपरोक्त नियमों का स्क्रीनशॉट ले सकते हैं, या आप अगली बार इस पेज को बुकमार्क कर सकते हैं, क्योंकि ये बुनियादी नियम हैं जिनका ग्रहण के दौरान पालन किया जाना चाहिए। तो आइए जानते हैं कि सूर्य ग्रहण 2021 कैसे आपकी राशि को प्रभावित कर सकता है।
 

10 जून 2021 को होने वाले सूर्य ग्रहण 2021 का राशियों पर प्रभाव-

 

मेष राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

सूर्य ग्रहण 2021 के दौरान मेष राशि वालों को अपने स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहने की आवश्यकता है क्योंकि उन्हें चिंता, निराशा और आंखों या निचले जबड़े से संबंधित समस्याओं का अनुभव हो सकता है। आर्थिक रूप से, इस अवधि के दौरान आपका अप्रत्याशित खर्च हो सकता है।  परामर्श और संचार से जुड़े व्यवसाय में सफलता मिल सकती है। नौकरी या व्यवसाय के लिए घर से बाहर या बाहर जाने का इरादा रखने वाले जातक सफल हो सकते हैं। धन को लेकर सतर्क रहें। रूटीन के काम से जुड़ी छोटी-छोटी यात्राएं हो सकती हैं और इसमें आपको सफलता भी मिल सकती है। मेष राषि के लोगों को सलाह दी जाती है कि इस दौरान पैसे उधार न लें और नौकरी छोड़ने का जोखिम न लें। व्यावसायिक कार्यस्थल से संबंधित नए उद्यम हो सकते हैं, लेकिन यह बहुत महंगा साबित हो सकता है, और धीमी प्रगति हो सकती है। आप परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हो सकते हैं जो आपके तनाव का कारण हो सकता है। संपत्ति को लेकर परिवार में कुछ अनबन के कारण भी आप चिंतित हो सकते हैं। बच्चों के लिए यह समय अनुकूल है। जिन जातकों की संतान नहीं होती है उन्हें संतान प्राप्ति में सफलता मिल सकती है। बड़े बच्चों वाले जातकों की उनसे असहमति हो सकती है और जिन जातकों के बच्चे अविवाहित हैं, उनकी शादी इस वर्ष के दौरान हो सकती है। छोटे भाई-बहनों के लिए यह बहुत अच्छा समय है, लेकिन अगर वे बड़े हो गए और काम कर रहे हैं तो उन्हें कॅरियर की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। दाम्पत्य जीवन में उचित समय आ सकता है। विवाहित जोड़ों को लंबे समय से चली आ रही समस्याओं से राहत मिल सकती है, और अंतरंगता बनी रह सकती है। आपको अपने मित्र मंडली से लाभ हो सकता है, और मित्रों के साथ आपका बंधन बना रह सकता है। बड़े भाई – बहनों से आपको लाभ हो सकता है। उनके कार्य या निवास से संबंधित स्थान में परिवर्तन हो सकता है। स्वास्थ्य अनुकूल हो सकता है।

सूर्य ग्रहण के उपाय-  सूर्य ग्रहण के दौरान गायत्री मंत्र का जाप करें। भगवान शिव और गणेेश मंदिर में सूर्यग्रहण के बाद दीपदान करें। गरीबों को जरूरत का सामान दें।
 

वृषभ राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

वृषभ राशि के लोगों को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है क्योंकि वे शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य में गिरावट का सामना कर सकते हैं। आपके आत्मविश्वास में कमी आ सकती है। तनाव के कारण कोई भी लापरवाह निर्णय न लें, इस बात का ध्यान रखें। मानहानि, धन हानि और स्वास्थ्य बिगड़ने से बचने के लिए आपको सावधान रहने की आवश्यकता हो सकती है, क्योंकि सूर्य ग्रहण 2021 के दौरान कुछ स्वास्थ्य समस्याएं आपको परेशान कर सकती है। वृषभ राशि के लोगों को धन की कमी नहीं रहेगी। फिर भी, अपने खर्चों पर नजर रखने की कोशिश करें। शारीरिक और मानसिक कष्टों के बीच भी पारिवारिक सौहार्द्र बना रह सकता है। जातकों के लिए यह एक अच्छा समय है, लेकिन अगर वे छात्र हैं, तो आप उनकी पढ़ाई को लेकर चिंतित हो सकते हैं। बच्चों को कॅरियर में अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। नौकरी और व्यापार करने वाले जातकों के लिए यह समय अनुकूल है, क्योंकि नए अवसर मिलने की संभावना रहेगी। वेतन वृद्धि की संभावना है, लेकिन इसके साथ अतिरिक्त कार्यभार हो सकता है – व्यवसाय के लिए एक प्रगतिशील अवधि। दाम्पत्य जीवन में अनबन हो सकती है। जीवनसाथी चाहने वाले जातकों को प्रतीक्षा करनी पड़ सकती है और धैर्य रखना होगा। जो लोग व्यवसाय के लिए जमीन खरीदना चाहते हैं, उनके लिए यह एक अच्छा समय हो सकता है। उन्हें सलाह दी जाती है कि किराए की जगह बदलना फायदेमंद हो सकता है। लंबी अवधि के निवेश के लिए समय अनुकूल नहीं है। इस दौरान वृषभ राषि वाले लोगों को शेयर बाजार में लंबी अवधि के निवेश से बचने की सलाह दी जाती है।

सूर्य ग्रहण के उपाय – आपको सलाह दी जाती है कि सूर्य से संबंधित दान करें। सूर्य को जल अर्पित करें और “ओम घृणी सूर्याय नमः” का जाप करें, विष्णु सहस्रनाम का जाप करें, पीपल के पेड़ को जल चढ़ाएं। आपको भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए 
 

मिथुन राशि वृषभ राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

मिथुन राशि के लोगों के बच्चों का स्वास्थ्य अच्छा रह सकता है। तनाव से संबंधित छोटी – मोटी समस्याएं हो सकती हैं या आंखों से संबंधित शारीरिक समस्याएं, पेट दर्द, पीठ के निचले हिस्से में दर्द आदि हो सकता है। आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने माता – पिता के स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहें। परिवार के कुछ सदस्यों को स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो सकती है। घर में किसी समस्या के कारण आप निराश महसूस कर सकते हैं। खर्च को लेकर चिंता आपको परेशान कर सकती है। संतान चाहने वाले जोड़े सफल हो सकते हैं। साथ ही बच्चों के मामले में धैर्य रखें। मिथुन राशि के जातकों को शारीरिक और मानसिक परेशानी हो सकती है, विशेष रूप से मानहानि और धन हानि पर ध्यान देना होगा। शेयर बाजार में महत्वपूर्ण लाभ की प्रतीक्षा न करें। अत्यधिक खर्च भी हो सकता है। सूर्य ग्रहण 2021 दांपत्य जीवन के लिए मध्यम रह सकता है। विदेश यात्रा करने के इच्छुक जातक इस वर्ष के दौरान सफल हो सकते हैं। धार्मिक यात्राओं या धार्मिक गतिविधियों के लिए अनुकूल समय है। मिथुन राशि के उन जातकों के लिए समय अच्छा है जो पढ़ाई कर रहे हैं। व्यापार या नौकरी के लिए समय प्रतिकूल हो सकता है। उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं और प्रगति धीमी होगी। आपको अपने कॅरियर को लेकर असंतोष हो सकता हैै, और आपको अपनी नौकरी बदलने की इच्छा हो सकती है। आपके खर्च आपकी आय से अधिक हो सकते हैं लेकिन पैसे उधार न लें।

सूर्य ग्रहण के उपाय –  आपको सूर्य या चंद्रमा से संबंधित दान करने की सलाह दी जाती है। आप सूर्य यंत्र की पूजा करके भी भगवान सूर्य का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।
 

कर्क राशि सूर्य ग्रहण का प्रभाव

कर्क राशि जातकों को सूर्य ग्रहण के असर के चलते धन लाभ और उन्नति हो सकती है। संपत्ति को लेकर लंबे समय से चल रहा कोई विवाद सुलझ सकता है। यदि आप पुरानी संपत्ति को बेचने में असमर्थ होने के कारण फंस गए हैं, तो आप इसे बेच सकते हैं और एक नई संपत्ति खरीद सकते हैं। आपको कुछ पैतृक संपत्ति प्राप्त हो सकती है। मित्र मंडली के भीतर आपकी असहमति या बहस हो सकती है। सूर्य ग्रहण 2021 के दौरान कुछ छोटे पारिवारिक मुद्दों के कारण आप चिंतित और तनावग्रस्त हो सकते हैं। बड़े भाई-बहनों के साथ संबंध तनावपूर्ण हो सकते हैं। इसलिए उनके साथ असहमति या वाद-विवाद से बचें। साथ ही इन मामलों में अपने गुस्से पर नियंत्रण रखें। परिजनों का स्वास्थ्य आपको चिंतित कर सकता है। आप अपने बच्चों को लेकर चिंतित हो सकते हैं। यदि विद्यार्थी हैं तो आपको अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है। संतान चाहने वाले विवाहित जोड़ों को धैर्य रखना पड़ सकता है। नौकरी और व्यवसाय की दृष्टि से सूर्य ग्रहण 2021 मध्यम साबित हो सकता है। इस अवधि में दाम्पत्य जीवन औसत रह सकता है। आप जो भी सुधार करना चाहते हैं उसे पूरा करने में सक्षम हो सकते हैं।नए निवेश के लिए अनुकूल समय है, लेकिन शेयर बाजारों से दूर रहने की कोशिश करें।

उपाय –  सूर्य ग्रहण के बाद आपको काले तिल, शहद, मूंग, दूध, काले चने (उड़द) दान करने की सलाह दी जाती है। सूर्य ग्रहण के दौरान आप भगवान गणेश की पूजा कर सकते हैं। देवगुरु बृहस्पति के भी मंत्रों का जाप आपको फायदा देगा।
 

सिंह राशि पर सूर्य ग्रहण 2021 का प्रभाव

सिंह राशि के जातकों के लिए सूर्य ग्रहण 2021 अशुभ साबित हो सकता है। वे पेट, पीठ के निचले हिस्से, आंख या हड्डियों में दर्द या समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। वे इस अवधि के दौरान अत्यधिक तनाव और क्रोध का अनुभव कर सकते हैं, मुख्यतः पारिवारिक मुद्दों के कारण। आपको पड़ोसियों के साथ अपने संबंधों को लेकर सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। यदि आपके संबंध अतीत में तनावपूर्ण थे, तो आप उनके साथ कुछ समझौता कर सकते हैं। आप अपने माता – पिता के स्वास्थ्य, विशेषकर अपने पिता के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हो सकते हैं। मित्रों, बड़े भाई – बहनों से संबंध अच्छे हो सकते हैं। सिंह राशि के जातकों के लिए यह समय अनुकूल है।  विवाह योग्य आयु के लोगों को इस अवधि में अपना जीवनसाथी मिल सकता है। सूर्य ग्रहण के असर के चलते आपको बच्चों की पढ़ाई की चिंता भी हो सकती है। नौकरी और व्यवसाय के लिए सूर्य ग्रहण 2021 प्रतिकूल है। सूर्य ग्रहण के प्रभाव के चलते स्थान परिवर्तन, विभाग परिवर्तन, तालिका परिवर्तन या स्थानान्तरण हो सकता है।  संपत्ति से संबंधित कोई भी लंबी अवधि की समस्या कुछ समय के लिए बनी रहेगी। बिक्री योग्य संपत्ति बिक सकती है, लेकिन आपको अपेक्षित मूल्य नहीं मिल सकता है। आपको अपने खर्चों पर नियंत्रण रखने की सलाह दी जाती है। 

उपाय – सूर्य ग्रहण के बाद भगवान शिव के मंदिर में को काले तिल, दूध, शहद, गन्ने का रस चढ़ाएं। सूर्य ग्रहण के दौरान गायत्री मंत्र के साथ भगवान शिव के मंत्रों का जाप भी करें। 
 

कन्या राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

10 जून को होने वाले सूर्य ग्रहण के असर के चलते कन्या राशि के जातक तनाव, चिंता और बेचैनी का अनुभव करेंगे। कुल मिलाकर सूर्य ग्रहण 2021 का जातक पर सकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन फिर भी इस अवधि में परिवार से संबंधित कोई समस्या हो तो समाधान हो सकता है। आर्थिक रूप से आपको अपने खर्चों को समझदारी से संभालने की आवश्यकता हो सकती है। कन्या राशि के लिए सूर्य ग्रहण के असर के चलते नौकरी, व्यापार और लंबी अवधि के निवेश के लिए यह अनुकूल समय है। आपको किसी नए उद्यम या धार्मिक गतिविधियों में बाधाओं का अनुभव हो सकता है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य को लेकर आप चिंतित हो सकते हैं। रिश्ते में कुछ छोटी – मोटी असहमति देखने को मिल सकती है। जीवनसाथी चाहने वाले जातकों को इस सूर्य ग्रहण 2021 में धैर्य रखना पड़ सकता है। आपको मातृ पक्ष के रिश्तेदारों से लाभ और मदद मिल सकती है। पिता के स्वास्थ्य को लेकर आप चिंतित हो सकते हैं। दोस्तों के साथ संबंध मध्यम हो सकते हैं और अचानक एक कड़वे अनुभव में बदल सकते हैं। इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि थोड़ी दूरी बनाकर रखें। बड़े भाई – बहनों से संबंध खराब हो सकते हैं।

उपाय –  ग्रहण के बाद भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और सूर्य, राहु और चंद्रमा के उपाय के अनुसार गरीबों को दान करें।  सूर्य भगवान की विशेष पूजा आपके लिए लाभकारी हो सकती है।
 

तुला राशि पर सूर्य ग्रहण 2021 का प्रभाव

तुला राशि के जातकों को सूर्य ग्रहण के कारण बड़ी कठिनाई, मानहानि और घातक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। संपत्ति से संबंधित समस्याएं भ्रम पैदा कर सकती हैं। शेयर बाजार में निवेश सीमित करें लेकिन महत्वपूर्ण वित्तीय लाभ आपको मिल सकता है। एक से दो साल के अल्पावधि निवेश से जातकों को लाभ हो सकता है। संतान के साथ संबंध सुधर सकते हैं, संतान प्राप्ति के इच्छुक दंपती को लाभ मिलेगा। सूर्य ग्रहण के असर के चलते आप पेट की समस्या, गैस, एसिडिटी, तनाव, आंत से संबंधित समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। नौकरी या व्यवसाय के लिए यह समय अनुकूल नहीं है। आप अपने कार्यक्षेत्र में रुचि या प्रेरणा खो सकते हैं। आप पारिवारिक मुद्दों के एक पूल में फंस सकते हैं। पैतृक संपत्ति से संबंधित कुछ मुद्दे भी हो सकते हैं। विद्यार्थियों के लिए यह समय अनुकूल है। इसके बावजूद, अनुभवी फोकस की कमी हो सकती है। उन्हें आत्मविश्वास की कमी का भी अनुभव हो सकता है। छोटे भाई-बहनों के साथ संबंध अच्छे हो सकते हैं, लेकिन बड़े भाई-बहनों के साथ संबंध इतने अच्छे नहीं हैं। अविवाहित छोटे भाई-बहनों को विवाह के अवसर मिल सकते हैं। धार्मिक यात्रा या धार्मिक गतिविधि के लिए यह एक अनुकूल समय है।

उपाय – ध्यान और आत्मविश्वास की कमी से बचने के लिए भगवान सूर्य को जल अर्पित करें। सूर्य ग्रहण पूरा होने के बाद सूर्य ग्रह से संबंधित चीजें जैसे गेहूं, लाल मसूर, तांबा आदि दान करें।
 

वृश्चिक राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए सूर्य ग्रहण 2021 स्वास्थ्य के लिहाज से मध्यम रह सकता है। व्यापार से जुड़े मामलों में आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी महत्वपूर्ण दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने से पहले सतर्क और सोच-समझकर ही लें। सूर्य ग्रहण के बाद संपत्ति निवेश से भारी लाभ मिल सकता है, और यदि आप कोई नया निवेश करना चाहते हैं, तो आप सफल हो सकते हैं। संपत्ति से जुड़े मामलों में आ रही बाधाओं का समाधान आपको मिल सकता है। आपको अपने खर्चो को लेकर सतर्क रहना पड़ सकता है। यदि आप साझेदारी के व्यवसाय में शामिल हैं, तो आप नाखुश हो सकते हैं। मतभेद हो सकते हैं। साथ ही, अपने व्यवसाय को लेकर सतर्क रहें, क्योंकि आपके साथ धोखाधड़ी हो सकती है। साथ ही बाजार में विकृति से बचने के लिए पैसे उधार लेने से बचें। यदि आपने शेयर बाजार में निवेश किया है, तो लाभ की संभावना कम है। सूर्य ग्रहण के बाद आप अपने बच्चों को लेकर लगातार चिंतित रह सकते हैं। संतान इच्छुक माता-पिता को कुछ और समय इंतजार करना पड़ सकता है। यदि आपके बच्चे छात्र या नौकरीपेशा हैं, तो यह समय उनके लिए प्रतिकूल हो सकता है। सूर्य ग्रहण के असर के चलते विवाहित जोड़ों के लिए आपको अपने विवाह में सामंजस्य बनाए रखने के लिए कुशलता से काम करना पड़ सकता है।  महिला या महिला मित्रों से संबंधित नुकसान उठाना पड़ सकता है।

उपाय – सूर्य ग्रहण के दौरान भगवान गणेश या भगवान विष्णु की पूजा करें। वैवाहिक मुद्दों के लिए दुर्गा सप्तशती की पूजा और पूजा करें। व्यापार से संबंधित कठिनाइयों के लिए सूर्य ग्रह से संबंधित चीजों का दान करें। सूर्य ग्रहण के बाद सौभाग्य के लिए शिवलिंग पर जल अभिषेक करें।
 

धनु राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

यह ग्रहण आपको अपने दुश्मन पर काबू पाने और आपके सुख में वृद्धि करने की अनुमति देता है। स्वास्थ्य के मामले में धनु राशि के जातकों के लिए समय अनुकूल है, लेकिन आपके स्थान के आधार पर थोड़ा संघर्ष हो सकता है। इस सूर्य ग्रहण 2021 के दौरान राहु और सूर्य के कारण आपको नई स्वास्थ्य शिकायतें हो सकती हैं। माता-पिता का स्वास्थ्य का भी आपको विशेष ध्यान रखना होगा। यदि आपके छोटे भाई-बहन अविवाहित हैं, तो उन्हें अपना जीवनसाथी मिल सकता है। आप अपने बच्चों के बारे में चिंता कर सकते हैं, और यदि बच्चे छात्र हैं, तो उनके पास पढ़ाई से संबंधित उचित समय हो सकता है। जीवनसाथी की तलाश करने वाले धनु राशि के जातकों को सूर्यग्रहण के असर के चलते सफलता मिल सकती है, और जो जातक पहले से ही शादीशुदा हैं, उन्हें विवाहित संबंधों में निकटता का अनुभव हो सकता है। नौकरीपेशा लोगों को कार्यभार में वृद्धि का अनुभव हो सकता है और इससे उन पर दबाव पड़ सकता है। आपको सलाह दी जाती है कि कोर्ट से जुड़े मामलों से दूरी बनाकर रखें। शत्रुओं पर आप हावी हो सकते हैं, लेकिन शत्रुता से बचने की सलाह दी जाती है। आपको वाहन चलाते समय अतिरिक्त सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। मित्रों के साथ संबंध मध्यम हो सकते हैं। 

उपाय – भगवान सूर्य को कुमकुम मिला अर्घ्य दें। चंद्रमा से संबंधित वस्तुओं का दान करें। गायत्री मंत्र और शिव पंचाक्षर मंत्र का सूर्य ग्रहण के दौरान लगातार जाप करते रहें। 
 

मकर राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

10 जून 2021 को होने वाले सूर्य ग्रहण के असर के चलते आप अपने बच्चों की शिक्षा के विषय में चिंतित हो सकते हैं। आप खुद के अलावा छोटे भाई-बहनों के विवाह के विषय में भी चिंतित हो सकते हैं।  सूर्य ग्रहण के असर के चलते आपको अपने वैवाहिक जीवन में थोड़ी मुश्किल हो सकती है। इस दौरान आपको मौन रहना चाहिए और विवाद को बढ़ने देने से रोकना चाहिए।  सूर्य ग्रहण के कारण दोस्तों से भी आपका मनमुटाव हो सकता है। मकर राशि के जातकों पर सूर्य ग्रहण के असर के चलते नए उपक्रमों के मामले में देरी हो सकती है। आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी कानूनी दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने से पहले सोच-समझकर काम करें। आप एक उत्कृष्ट वित्तीय स्थिति में हो सकते हैं, और आप धन की कमी के मुद्दे को हल करने में सक्षम होने की संभावना रखते हैं। यह नौकरी और व्यवसाय के लिए उपयुक्त है, लेकिन पढ़ाई के लिए बहुत अच्छा नहीं है।  नौकरीपेशा लोगों के लिए नौकरी के बेहतर अवसर या वेतन वृद्धि का अवसर हो सकता है। आप अपनी संपत्ति का नवीनीकरण करवा सकते हैं। व्यवसाय के स्थान में परिवर्तन हो सकता है लेकिन धीमी प्रगति के साथ।

उपाय – सूर्य, चंद्र और राहु से जुड़े दान करें। लक्ष्मीनारायण के मंत्रों का जाप करें। शनि से संबंधित दान भी सूर्य ग्रहण के बाद आपको शुभ फल दे सकते हैं।
 

कुंभ राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

कुंभ राशि के लोगों को सूर्य ग्रहण के असर के चलते समग्र स्वास्थ्य लाभ भी मिल सकता है। किसी असामान्य बीमारी से आपको राहत मिल सकती है। आपको अपने खर्चों पर ध्यान देना पड़ सकता है। माता का स्वास्थ्य भी आपको चिंतित कर सकता है। मित्रों के साथ संबंध अच्छे हो सकते हैं। यदि आपके बड़े भाई-बहन अविवाहित हैं, तो उनके विवाह के अवसर बन सकते हैं। संपत्ति के मामले में सूर्य पुरानी संपत्ति को बेचने के लिए यह अनुकूल समय हो सकता है। सूर्य ग्रहण के असर के चलते एक सप्ताह तक नया निवेश जोखिम भरा साबित हो सकता है। संपत्ति विवाद के कारण आपके तनाव और कुंठा में वृद्धि हो सकती है। हालांकि देरी के बावजूद आपके सभी कार्य पूरे हो सकते हैं। नौकरी और व्यापार में आप पर काम का भारी बोझ पड़ सकता है। स्थान परिवर्तन हो सकता है। नई योजनाएं बन सकती हैं। विभाग परिवर्तन, तालिका परिवर्तन या स्थानांतरण संभव हो सकता है। आर्थिक रूप से आप मजबूत हो सकते हैं! बच्चों की पढ़ाई के लिए यह समय अनुकूल है। जोड़े इस दौरान बच्चे की योजना बना सकते हैं। जीवनसाथी चाहने वाले जातकों के लिए यह वर्ष फलदायी साबित हो सकता है। आप सामाजिक गतिविधियों में शामिल होने में सक्षम हो सकते हैं। यात्रा करने का अवसर मिल सकता है। मित्रों के साथ संबंध बेहतर हो सकते हैं। यदि आपके बड़े भाई-बहन अविवाहित हैं, तो उनके विवाह के अवसर प्रबल हो सकते हैं।
 
उपाय – ग्रहण के दौरान गायत्री मंत्र का जाप करें। सूर्य ग्रहण के बाद सूर्य और शनि से संबंधित दान आपके लिए फायदेमंद रहेंगे।
 

मीन राशि पर सूर्य ग्रहण का प्रभाव

 
मीन राशि के जातकों को सूर्य ग्रहण के असर के चलते धन लाभ और सफलता की संभावना बढ़ सकती है। प्रॉपर्टी से जुड़े मामले सुलझ सकते हैं। नई संपत्ति का मालिक बनना संभव हो सकता है। आप घर, वाहन या सजावटी घरेलू सामान में निवेश कर सकते हैं। नए उद्यमों के बारे में अराजकता कभी न खत्म होने वाली प्रतीत हो सकती है। किसी भी कानूनी दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने से पहले सतर्क रहें और उसे ठीक से पढ़ें। आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति भी सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। माता-पिता के स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव हो सकता है। सूर्य ग्रहण 2021 के प्रभाव में आप पेट की समस्याओं, तनाव और त्वचा संबंधी समस्याओं से भी पीड़ित हो सकते हैं। छोटे भाई – बहनों के लिए यह समय अनुकूल नहीं है। पड़ोसियों के साथ संबंध तनावपूर्ण हो सकते हैं। यह समय शिक्षा के मामले में मध्यम है। छोटे भाई – बहनों के विवाह से संबंधित कार्यवाही में रुकावटों का सामना करना पड़ सकता है, और यदि वे पहले से ही विवाहित हैं, तो उनके वैवाहिक जीवन में उतार – चढ़ाव का अनुभव हो सकता है। इस दौरान आप कोई धार्मिक यात्रा भी कर सकते हैं। मित्रों के साथ संबंध मध्यम रहेंगे।

उपाय –  ग्रहण के दौरान भगवान गणेश, सूर्य की पूजा करें। ग्रहण के बाद शिव मंदिर में प्रसाद चढ़ाएं। साथ ही सूर्य ग्रहण 2021 के दुष्प्रभाव को नकारने के लिए सूर्य, चंद्रमा और राहु से संबंधित दान करें।
 
 
 
 
 
 
 
 

31 May 2021


View All blogs

More Articles