गूगल फैलाव में ग्रहों का सहयोग मिलेगा सुंदर पिचाई को – गणेशास्पीक्स


Share on :


पिचार्इ सुंदरराजन को सुंदर पिचार्इ के नाम से अधिक जाना जाता है। तमिलनाडु के चेनर्इ में जन्म सुंदर पिचार्इ ने गूगल इंक के अल्फाबेट इंक में बदलने के बाद गूगल उत्पादों से जुड़ी कंपनी का मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में पदभार संभाला। जानकारी के अनुसार सुंदर पिचार्इ ने वर्ष 2004 में गूगल कंपनी को ज्वाॅइन किया था। यहां पर उन्होंने गूगल क्रोम एवं क्रोम आेएस जैसे उत्पादों पर कार्य किया। इसके अलावा जीमेल एवं गूगल मैप में भी उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही। उनकी सफलता एवं उनको सौंप गर्इ जिम्मेदारी उनकी कार्य के प्रति निष्ठा को प्रकट करती है। आगे भविष्य में भी गूगल इंक की मुख्य कंपनी एल्फाबेट को सुंदर पिचार्इ से काफी उम्मीदें हैं। मगर, क्या सुंदर पिचार्इ अपनी जिम्मेदारी को बेहतर तरीके से निभाते हुए सफलता के कुछ नए आयामों को छूएंगे ? के संबंध में जानने के लिए गणेशास्पीक्स के ज्योतिषविदों ने उनकी सूर्य कुंडली का अध्ययन किया एवं पाया कि – 

सुंदर पिचाई – गूगल के सीईओ
जन्म तिथि : 12 जुलाई 1972
जन्म के समय : अपुष्ट
जन्म स्थान : चेन्नई, तमिलनाडु, भारत

सूर्य कुंडली 

सुंदर पिचार्इ का सही या पुष्ट जन्म समय नहीं मिलने की सूरत में केवल जन्म स्थान एवं जन्म दिवस को आधार बनाकर गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम के ज्योतिषविदों द्वारा सूर्य कुंडली का निर्माण किया गया है। आैर, इसी आधार पर निम्न फलकथन किया गया है। 

सुंदर की कुंडली की मुख्य विशेषताएं क्या हैं ?
सुंदर पिचार्इ की कुंडली में आत्मा का संकेतक ग्रह सूर्य मिथुन राशि में है। यह ग्रहीय स्थिति काफी अच्छी एवं शुभ है, सुंदर पिचार्इ की कुंडली के लिए, क्योंकि सूर्य जैसा प्रबल ग्रह मिथुन राशि में है। इस ग्रहीय स्थिति के प्रभाव में सुंदर पिचार्इ इंटरनेट, उपकरणों, कंप्यूटर, सूचना और प्रौद्योगिकी से जुड़े कार्यों में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। गुरू भी इस स्थान में है, जो गुरू का मूलत्रिकोण स्थान है।  गुरू की दृष्टि सूर्य पर पड़ रही है, जो सुंदर पिचार्इ के भीतर गुण को निखारने में अधिक मददगार साबित होगी। इसके अलावा कर्क राशि में चंद्रमा, मंगल, बुध एवं केतु ग्रहों की युति बन रही है। यह ग्रहीय प्रभाव सुंदर पिचार्इ को भावनात्मक रूप से सक्षम, विचारक और कल्पनाशील शख्सियत बनाने में अहम रोल अदा कर रही है। इसके अलावा, चंद्रमा, बुध एवं मंगल केतु के साथ होने के अलावा शनि की दृष्टि में हैं, इसलिए किसी भी कार्य को प्रारंभ करने से पहले सुंदर पिचार्इ गहनता से विचार करते हैं।

ग्रहीय हलचल और उनका प्रभाव:
11 अगस्त 2016 तक गोचर का गुरू उनके जन्म के गुरू पर दृष्टि डालेगा, जो धनु राशि में है। इसके अलावा 30 जनवरी 2016 के पश्चात जन्म के शनि पर से केतु भ्रमण करेगा। गोचर का शनि जन्म के राहु पर दृष्टि डालेगा, जो मकर है। इसके अलावा उनके शुक्र एवं शनि पर भी दृष्टि रहेगी, जो वृषभ में हैं। गणेशजी महसूस कर रहे हैं कि 11 अगस्त 2016 तक, सुंदर पिचार्इ अपने अनुभवों एवं सामान्य कौशलों की मदद से दूसरों को लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रेरित करने में सक्षम होंगे। हालांकि, गणेशजी कह रहे हैं कि जनवरी 2016 तक का समय नई परियोजनाओं और कार्यक्रमों को शुरू करने के लिए अच्छा नहीं होगा। इस समय यदि सुंदर पिचार्इ कुछ करने की ठानते हैं तो उनको काफी अवरोधों का सामना करना पड़ेगा। इसके पश्चात गूगल संगीत एवं मनोरंजन संबंधित कारोबार पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकता है। सुंदर पिचार्इ की अगुवार्इ में गूगल अगस्त के पश्चात जबरदस्त प्रगति हासिल करने की तरफ कदम बढ़ाएगा, कुछ इस तरह के संकेत मिल रहे हैं। इसके अलावा फरवरी से सितंबर 2016 तक की समय अवधि दौरान सुंदर पिचार्इ को अलग अलग क्षेत्रों में गतिविधियां तेज करनी होगी एवं कुछ इस तरह के क्षेत्र हो सकते हैं, जिन पर अभी तक कंपनी ने  ध्यान ही नहीं दिया हो। 

18 Aug 2015


View All blogs

More Articles