एक सांस में गाना गाकर बाॅलीवुड को चौकाने वाले शंकर महादेव के लिए कैसा रहेगा साल 2020


Share on :


3 मार्च 1967 में मुंबई के एक तमिल परिवार में जन्में शंकर महादेवन ने महज पांच साल की उम्र में ही वीणा बजाना शुरू कर दिया था। महादेवन ने बचपन से ही संगीत सीखना शुरू कर दिया था। उन्होंने प्रसिद्ध मराठी संगीतकार और पद्म भूषण पंडित श्रीनिवास खले से संगीत की शिक्षा प्राप्त की, श्रीनिवास खले को फिल्म जगत में खले काका के नाम से भी जाना जाता है। महादेवन ने जीवन के शुरूआती दिनों में एक साॅफ्टवेयर कंपनी में काम किया लेकिन वे अधिक दिनों खुद को संगीत से दूर नहीं रख पाये। साल 1998 में उन्होंने अपना पहला एल्बम ब्रीथलेस लाॅच किया, एल्बम में संगीतकार शंकर महादेवन ने प्रसिद्ध गीतकार जावेद अख्तर के शब्दों को संगीत की माला में पिरोकर जैसे हिंदी संगीत जगत में तहलका मचा दिया। महादेवन के पहले एल्बम ब्रीथलेस के हिट होने के पीछे इनके गानों का एक सांस मे गाया जाना भी था। एल्बम का टाइटल साॅग ब्रीथलेस 3 मिनट लंबा गीत है, जिसे बिना ब्रेक के बिना रूके एक सांस में गया गया है।

शंकर महादेवन ने अपने पहले एल्बम के बाद कभी पिछे मुड़कर नहीं देखा। साल 1998 से अब तक वे सैकड़ो हिंदी, तमिल, कन्नड़, अंग्रेजी और मराठी फिल्मों में संगीत दे चुके है। उन्हे साल 2007 में फिल्म तारे जमीं पर के गीत मां के लिए पहली बार बेस्ट प्लेबेक सिंगर मेल का राष्ट्रीय पुरूस्कार प्रदान किया गया। साल 2012 में उन्हे पुनः अपने गीत बोल ना के लिए बेस्ट प्लेबेक सिंगर मेल का नेशनल फिल्म अवार्ड मिला। फिल्म जगत में अपने अतुलनीय योगदान के लिए उन्हे साल 2019 में पद्म श्री अवार्ड से सम्मानित किया गया। 3 मार्च 2020 को शंकर महादेवन 53 साल के होने जा रहे है। शंकर महादेवन के जन्मदिन के मौके पर हमने उनकी कुंडली के माध्यम से उनके आगामी करियर और उनके जीवन के कुछ अनछुए पहलू जानने की कोशिश की है।

नाम – शंकर महादेवन
जन्म दिनांक – 3 मार्च 1967
जन्म स्थान – मुंबई
जन्म समय – अज्ञात

शंकर महादेवन की सूर्य कुंडली



शंकर महादेवन की सूर्य कुंडली में कुंभ लग्न का उदय हो रहा है, कुंडली में लग्नेश और भाग्य स्थान के स्वामी के बीच सकारात्मक संबंध दिखाई देते है। सूर्य कुंडली के इस योग के कारण उन्हे सदैव भाग्य का साथ मिलता होगा। हालांकि उनकी प्रसिद्ध और नाम के पीछे उनकी मेहनत भी साफ दिखाई देती है। कुंडली में बुध की सकारात्मक स्थिति ने उन्हे आवाज का धनी और रचनात्मक बनाने का कार्य किया है।

जैसा कि हम सभी जानते है कि वे एक अच्छे गायक और संगीतकार है, इसके पीछे कुंडली में ग्रहों का सकारात्मक संयोजन भी है। ग्रहों के सकारात्मक संयोजन ने उन्हे संगीत के प्रति जुनून और समर्पण देने के साथ ही सफल बनाने का कार्य भी किया है। सूर्य कुंडली में ग्रहों की स्थिति और गोचर ग्रहों की स्थिति के आधार पर कहा जा सकता है, कि उनके जीवन का नया साल उनके लिए अधिक सफलता और प्रसिद्धि लेकर आने वाला है। गोचर गुरू कुंडली के लाभ स्थान से गुजर रहे है, जो उन्हे पेशेवर जीवन में सफलता दिलाने का कार्य कर सकते है। साल 2020 में उन्हे कुछ बड़ी और अच्छी योजनाओं पर काम करने का मौका मिल सकता है। उनके सार्वजनिक जीवन और प्रतिष्ठा में भी वृद्धि की पूरी संभावना नजर आती है। गोचर शनि कुंडली के बारहवें भाव में गोचर कर रहे है, इसलिए उन्हे कुछ अड़चनों का सामना भी करना पड़ सकता है, हालांकि ये अड़चने प्रबंधनीय होगी। करियर के लिहाज से यह साल कुछ उतार-चढ़ाव वाला रहने वाला है, हालांकि कुल मिलाकर यह साल करियर के लिहाज से उन्हे उन्नति ही प्रदान करने वाला है। इसी के साथ उन्हे कई कलाकारों के साथ काम करने में सावधानी बरतने की सलाह है। स्वास्थ्य के लिहाज से भी साल 2020 उनके लिए अनुकूल रहने वाला है। इस दौरान वे खुद को अधिक सकारात्मक ऊर्जा से भरा पाएंगे। जीवन के प्रति उनका सकारात्मक नजरिया उन्हे करियर और निजी तौर पर अधिक सफल और खुश बनाने का कार्य करेगा। उन्हे इस दौरान मामूली जोड़ों के दर्द और गैस से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि किसी बड़ी स्वास्थ्य समस्या की संभावना नजर नहीं आती है। आर्थिक दृष्टिकोण से यह साल उन्हे लाभान्वित कर सकता है, साथ ही उन्हे विदेश से भी लाभ मिलने की संभावना नजर आती है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिष विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

02 Mar 2020


View All blogs

More Articles