कबीर सिंह के बाद किनते सफल हो पांएगे शाहिद कपूर?


Share on :


फिल्मी पर्दे पर अपने बेबाक अंदाज़ के लिए जाने जाने वाले शाहिद कपूर अपने निजी जीवन में बिल्कुल भी ऐसे नहीं रहे। कभी नशे में प्रेमिका के ग़म को भूलने की जद्दोजहद करते, तो कभी किसी कश्मीरी युवक की मानसिक स्थिति से अपने अभिनय के दम पर हमारा परिचय करवाने वाले शाहिद कपूर, अपने निजी जीवन में बेहद शांत और शर्मीले व्यक्तित्व के धनी हैं। अपने करियर के शुरूआती दिनों में उन्होंने विज्ञापन फ़िल्मों और बैकग्राउड डाँसर के तौर पर काम किया। साल 2003 में रोमांटिक हिट फिल्म इश्क विश्क से सफल शुरूआत के बाद साल 2004-05 में उन्हें कुछ फ्लाॅप फिल्मों से जूझना पड़ा, हालांकि फिल्म समीक्षकों द्वारा फ़िदा 2004 और शिखर 2005 जैसी फिल्मों में उनके अभिनय को सराहा गया। लेकिन साल 2006 में 36 चाइना टाउन और विवाह जैसी सुपर हिट फिल्मों ने उन्हें फिर से संभलने का मौका दिया और फिर साल 2007 में आई इम्तियाज अली की फिल्म जब वी मेट ने उन्हें रोमांटिक हिट हीरो की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया। लेकिन अपने किरदारों के साथ प्रयोग करने वाले शाहिद ने इस ढर्रे को तोड़ा और विशाल भारद्वाज की फिल्म कमीने में ज़ोरदार डार्क किरदार निभा कर सब को चौंका दिया। हालांकि फिल्म को आर्थिक सफलता नहीं मिल पायी, लेकिन समीक्षकों ने उन्हें परिपक्व अभिनेता के तमंगे से नवाजा।

लेकिन साल 2008 से 2010 और 2013 तक उनके करियर ने एक बार फिर गोता लगाया, और उनकी कई फिल्मों ने बाॅक्स ऑफ़िस को निराश किया। कपूर को असली सफलता मिली फिल्म हैदर से जिसमें उन्होंने हैदर मीर का किरदार निभाया। कपूर ने एक कश्मीरी युवक की मनोस्थिति को सुनहरे पर्दे पर जीवंत कर दिया। शाहिद कपूर को फिल्म हैदर के लिए साल 2015 में फिल्म फेयर बेस्ट एक्टर का अवार्ड मिला। वर्तमान समय की बात करें तो उनकी फिल्म कबीर सिंह ने साल 2019 की सबसे सफल फिल्म होने का तमगा हासिल किया है। 25 फरवरी 1981 को जन्मे शाहिद कपूर, मंगलवार को 39 साल के हो जाएंगे। उम्र के इस पड़ाव में उनका आगामी करियर और उनका जीवन कैसा होने वाला है, इसे जानने के लिए गणेशास्पीक्स के अनुभवी ज्योतिषियों ने शाहिद कपूर की सूर्य कुंडली का गहन अध्ययन किया है। आइये जानते हैं कि क्या कहते हैं शाहिद कपूर की कुंडली के सितारे?

शाहिद कपूर की जन्म कुंडली

जन्म तिथि: 25 फरवरी 1981
जन्म स्थान: नई दिल्ली, भारत
जन्म का समय: अज्ञात


वैदिक ज्योतिष के अनुसार शाहिद कपूर की कुंडली में सूर्य कुंभ राशि में लग्न स्थान पर बैठे हैं। ग्रहों की स्थिति को देखकर यह कहा जा सकता है कि शाहिद कपूर बेहद सहज, रचनात्मक, मूल और कुछ अनोखे गुणों के धनी हैं। ऐसे जातक सदैव अपने सहज बोध से प्रेरणा लेने का कार्य करते हैं, वे दयालु और दोस्ताना व्यवहार करने वाले होते हैं। वहीं कलाओं के प्रदर्शन से संबंध रखने वाले शुक्र, कुंडली में शनि की राशि में बैठे हैं। शुक्र का शनि के स्थान पर बैठना शाहिद कपूर को अपने किरदार के लिए मेहनत करने और उस किरदार के साथ न्याय करने की क्षमता देता है। शुक्र और शनि का संबंध उन्हें अपने करियर के लिए लगातार गंभीर प्रयास करने के लिए प्रेरित करता है। 

व्यवसाय

सूर्य कुंडली और गोचर ग्रहों की स्थिति का आंकलन करने के बाद यह कहा जा सकता है, कि मौजूदा गुरू गोचर उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लेकर आने वाला है। अपने गोचर के दौरान गुरू, कुंडली के दूसरे और ग्यारहवें भाव के स्वामी है। ग़ौरतलब है कि कुंडली का दूसरा भाव धन और ग्यारहवां भाव लाभ से संबंध रखता है। इस आधार पर कहा जा सकता है कि इस दौरान शाहिद को आर्थिक लाभ मिलने की पूरी संभावना है। गोचर शनि की बात करें तो वे कुंडली के बारहवें भाव से गोचर कर रहे हैं, वहीं राहु कुंडली के पांचवें भाव में भ्रमण कर रहे हैं। गोचर गुरू शाहिद की कुंडली के सातवें भाव पर दृष्टि डाल रहे हैं, जिससे उन्हें अपने निर्धारित लक्ष्य प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। शाहिद कपूर की कुंडली में ग्रहों की स्थिति समझने के बाद यह कहा जा सकता है, कि साल 2020 शाहिद के करियर को सफलता की ऊचाईयों पर लेकर जाने में अहम भूमिका निभा सकता है। इस दौरान उन्हें कुछ बड़ी फिल्में मिल सकती है, जिनकी सफलता उन्हें कार्य में नाम के साथ आर्थिक लाभ भी देने का कार्य करेंगी। इस दौरान उन्हें अपने अभिनय के दम पर मान सम्मान और ख्याति की प्राप्ति होगी। गुरू जिसे कुंडली में अमृत समान माना गया है, वह शाहिद की कुंडली के धन और लाभ स्थान के स्वामी हैं। गुरू गोचर से निर्मित हो रहे योग उनकी आर्थिक वृद्धि की संभावना को दर्शाते हैं। गुरू के सकारात्मक प्रभाव में शाहिद को इंडस्ट्री में अच्छा काम मिलने के संकेत हैं, जिससे उन्हें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सफलता मिल सकती है। क्या आपको भी मिलगी वर्ष 2020 में सफलता, प्राप्त करें अपना व्यक्तिगत राशिफल और जानें।


स्वास्थ्य

स्वास्थ्य की बात करें तो फिलहाल गोचर शनि शाहिद के जन्म के बुध और केतु के ऊपर से गुजर रहे हैं। शनि का यह योग उन्हें सतर्क और सावधान रहने की चेतावनी देता है, शनि का जन्म के बुध और केतु से गुजरना कुछ अप्रत्याशित स्वास्थ्य समस्या या दुर्घटना की ओर भी इशारा करता है। हालांकि यदि इस संबंध में थोड़ी सावधानी और सतर्कता बरती जाए तो वे अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रख सकते हैं। अन्यथा स्वास्थ्य समस्याओं के कारण आगामी शेड्यूलस् के गड़बड़ होने की संभावना है।

निष्कर्ष

शाहिद कपूर की कुंडली का आंकलन करने के बाद निष्कर्ष के तौर पर यह कहा जा सकता है, कि साल 2020 शाहिद कपूर के लिए मिले जुले परिणाम लेकर आने वाला है। ग्रहों की मौजूदा स्थिति उन्हें अपने सपनों को समझने और उन्हें पूरा करने की क्षमता देने वाली है। इस दौरान वे कड़ी मेहनत और लगन के दम पर सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

25 Feb 2020


View All blogs

More Articles