रेणुका की हंसी फिर गुजेंगी संसद में या नहीं, पढ़ें क्या कहती है रेणुका की कुंडली


Share on :

संसद में जोर-जोर से हंसकर पीएम मोदी के व्यंग्य का पात्र बनी रेणुका कर्नाटक की खम्मम सीट से कांग्रेस की उम्मीदवार है। रेणुका का सीधा मुकाबला तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के एन नागेश्वर राव से है।  कांग्रेस को यहां पर काफी उम्मीदें हैं, वहीं टीआरएस अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव यहां अपनी पार्टी का प्रभुत्व कायम करने को लेकर प्रयासरत हैं। यहां पर कांग्रेस 1952 से 11 बार जीती है जबकि अन्य ने बाकी चार मौकों पर जीत दर्ज की है। देखते हैं रेणुका इतिहास दोहरा पाती है या नहीं। जानते हैं उनकी कुंडली का विश्लेषण-

रेणुका चौधरी की कुंडली


क्या कहती है रेणुका की कुंडली

– रेणुका की कुंडली में गोचर का राहु अभी 12 वें भाव से गुजर रहा है। यह केतु और गुरु से गुजर रहा है और मंगल और राहु पर इसकी सीधी दृष्टि है।
– 11 अप्रेल को चुनाव के समय गुरु धनु राशि में था। जो कुंडली के छठे भाव में गोचर कर रहा था।
– गोचर का शनि-केतु, जन्म के मंगल -राहु से गुजर रहा है।
– चुनाव के दिन सूर्य मीन राशि में रहे।
– चुनाव के बाद मीन से मेष में सूर्य का गोचर होगा, जो जन्म के शनि के ठीक सामने होगा।

रेणुका की कुंडली का विश्लेषण

चुनाव के समय गोचर का गुरु की दृष्टि दशम भाव पर थी, इसलिए वोटर्स को लुभाने और प्रतिद्वंदियों को वे कड़ी टक्कर दे रही थी। हालांकि चुनाव के परिणाम के समय गुरु का वृश्चिक राशि में वक्री होना रेणुका के लिए फायदेमंद नहीं रहे। सवर्णों के वोट इन्हें कम ही मिले होंगे। हालांकि राहु का 12 वें भाव में गोचर और जन्म के मंगल-राहु से शनि-केतु का असर उनके लिए थोड़ा दिक्कत देगा। इस समय वे वोटर्स तक अपनी बात पहुंचाने में नाकामयाब रहेगी। उनके छिपे शत्रु भी उनका नुकसान करने के लिए तैयार बैठे रहेंगे। 

रेणुका की कुंडली के लिए निष्कर्ष

ग्रहों की विपरित स्थितियों को देखते हुए कहा जा सकता है कि रेणुका लोकसभा चुनाव 2019 में खम्मम सीट पर कांग्रेस का झंडा बुलंद करने में नाकामयाब रह सकती है। 


ये भी पढ़ें-




18 Apr 2019


View All blogs

More Articles