क्या राज बब्बर फतेहपुर सीकरी लोकसभा सीट पर जीत पाएंगे?


Share on :


राज बब्बर उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पार्टी के कद्दावर नेता के तौर पर जाने जाते हैं। वैसे लोकसभा चुनाव के लिए जारी दूसरी सूची में ही कांग्रेस ने राज बब्बर को मुरादाबाद से अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया था, लेकिन बाद में उनका चुनाव क्षेत्र बदलकर फतेहपुर सीकरी कर दिया गया। ऐसा नहीं है कि वे पहली बार इस सीट से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। वर्ष 2009 में भी राज बब्बर ने फतेहपुर सीकरी संसदीय सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन उस दौरान उन्हें बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी से करीब नौ हजार मतों से हार का सामना करना पड़ा था। अब एक बार फिर से वे इसी सीट से चुनाव मैदान में हैं। अब देखना है कि इस बार के चुनाव में उनका प्रदर्शन कैसा रहता है। यहां हम राज बब्बर की कुंडली का ज्योतिषीय विश्लेषण कर आगामी लोकसभा चुनावों में उनके राजनीतिक भविष्य और जीत की संभावनाओं का आकलन करेंगे। 

 

राज बब्बर की कुंडली


जन्म तिथि : 23 जून, 1952
जन्म का समय : ज्ञात नहीं
जन्म स्थान : आगरा, उत्तरप्रदेश, भारत

राज बब्बर के लिए क्या कहते हैं सितारे


– गोचररत शनि सूर्य, चंद्रमा, शुक्र और बुध को देख रहे हैं।

– गोचररत राहु सूर्य, चंद्रमा, शुक्र और बुध के ऊपर भ्रमण कर रहे हैं।

ज्योतिषीय विश्लेषण

  
उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर की कुंडली के विश्लेषण से पता चलता है कि आगामी लोकसभा चुनावों में राज बब्बर को कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा। खुद को वोट देने के लिए मतदाताओं को खुश करने और वोट को अपने पक्ष में करने के उनके प्रयासों को अपेक्षित स्तर पर सफलता नहीं मिल सकती है। गोचररत शनि की महत्वपूर्ण ग्रहों पर नजर होने के कारण उन्हें अपने समर्थकों और मतदाताओं से उचित सहयोग नहीं मिल सकेगा। राहु के गोचर से उन्हें मानसिक दबाव के साथ ही निराशा मिलेगी, परिणामस्वरुप उनका आत्मविश्वास टूट जाएगा। साथ ही कुछ विवादों में शामिल होने के कारण उन्हें गुस्से का भी सामना करना पड़ेगा। इस दौरान उन्हें प्रतिद्वंद्वियों के कड़े विरोध का सामना करना पड़ सकता है, साथ ही उन्हें अपनी ही पार्टी के सदस्यों का वांछित समर्थन मिलने में भी परेशानी हो सकती है। इतना ही नहीं मंगल का पारगमन अपनी योजना या गणना के अनुरुप यूपी के इस महत्वपूर्ण सीट पर जीत के लिए वांछित परिणाम नहीं हासिल करने देगा। 

 

राज बब्बर की कुंडली का निष्कर्ष


इस विश्लेषण से पता चलता है कि बेशक, वह अपने पक्ष में मतदान करने के लिए अपने स्तर से लोगों का दिल जीतने की पूरी कोशिश करेंगे, लेकिन ग्रहों के पारगमन उनकी जीत के अनुकूल नहीं होंगे। ऐसे में कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि राज बब्बर के लिए इस बार लोकसभा सीट जीतने का कोई मौका नहीं है।


आचार्य गौतम के इनपुट के साथ
गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/हिंदी



16 Apr 2019


View All blogs

More Articles