For Personal Problems! Talk To Astrologer

मंगल गोचर 2019 : मंगल का कर्क राशि में गोचर – मंगल का राशि परिवर्तन


Share on :


कर्क राशि में गोचर कर रहे हैं, ऐसे में सभी 12 राशियों पर उनका प्रभाव देखने को मिलेगा। कर्क राशि में मंगल के गोचर का सभी राशियों पर किस तरह का प्रभाव पड़ेगा, आइए जानते हैं। वैसे आप मंगल के उपाय कर इसके अशुभ प्रभावों को कम कर सकते हैं।
 

मेष राशि

मंगल का गोचर आपकी राशि से चौथे भाव में हो रहा है। चूंकि आपके राशि स्वामी भी मंगल हैं, ऐसे में परिवार और सुख-सुविधाओं के कारक इस भाव में मंगल के गोचर के मिश्रित परिणाम देखने को मिलेंगे। इस अवधि में पारिवारिक और कार्यस्थल से जुड़ी बातों को लेकर आपको मानसिक चिंता हो सकती है। जीवनसाथी से भी मनमुटाव हो सकता है। हालांकि नौकरीपेशा लोगों का प्रदर्शन बेहतर रहेगा, साथ ही धनलाभ भी होगा, लेकिन आपको प्रतिकूल प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं। इस अवधि में आपको अपने माता-पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखने की जरूरत है।

वृषभ राशि

 
आपकी राशि से तीसरे स्थान में मंगल का परिवर्तन आपके लिए बहुत बेहतर नहीं साबित होगा। इस दौरान आपको थोड़ी सावधानी बरतने की जरुरत है। गोचर अवधि में भाई बहनों के साथ मनमुटाव की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है। वैसे आप सोचे हुए कार्यों को पूरा करने की कोशिश करेंगे, लेकिन इस दौरान आपको कार्यक्षेत्र में दबाव भी महसूस हो सकता है। हालांकि आपके जीवनसाथी को कार्यक्षेत्र में कामयाबी मिल सकती है। इस अवधि में अपनी वाणी और व्यवहार में नरमी बनाए रखें। 

मिथुन राशि 

 
मंगल का गोचर आपकी ही राशि से हो रहा है और वे दूसरे भाव में जा रहे हैं, जिसका असर आपकी आर्थिक स्थिति के साथ ही बात और व्यवहार पर भी देखने को मिल सकता है। वैसे इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत तो होगी, लेकिन ज्यादा खर्च के कारण आपको परेशानी हो सकती है। वाणी और व्यवहार की बात करें तो इस दौरान आपकी वाणी में कटुता आ सकती है। आपका स्वास्थ्य भी प्रभावित हो सकता है। ऐसे में आपको ध्यान का सहारा लेकर मानसिक शांति प्राप्त करने की जरूरत है। 

कर्क राशि

मंगल आपकी ही राशि के लग्न भाव में गोचर कर रहे हैं, ऐसे में वे आपकी स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को बढ़ा सकते हैं। आपके स्वभाव में चिड़चिड़ापन हो सकता है, साथ ही आपके क्रोध और अहंकार में भी वृद्धि हो सकती है। ऐसे में किसी के साथ बातचीत में सावधानी बरतें। खास तौर पर जीवनसाथी के साथ बात करते समय शब्दों में पारदर्शिता रखें, अन्यथा आपसी तनाव बढ़ सकता है। हालांकि कार्यक्षेत्र में आपको बेहतर परिणाम मिल सकते हैं। विद्यार्थियों के लिए भी यह अवधि बेहतर साबित हो सकती है। 

सिंह राशि

 
मंगल का परिवर्तन आपकी राशि से 12 वें भाव में हो रहा है। इस अवधि में आपको मिले जुले परिणाम देखने को मिल सकते हैं। आपको किसी बात को लेकर मानसिक चिंता हो सकती है। आर्थिक स्थिति कमजोर रहेगी, लेकिन कोर्ट-कचहरी के मामलों में आपको सफलता मिल सकती है। इस दौरान जल्दबाजी में लाभ कमाने की इच्छा न रखें, अन्यथा नुकसान हो सकता है। कार्यक्षेत्र में आपका प्रदर्शन बेहतर रहेगा। इस अवधि में जीवनसाथी के स्वास्थ्य को लेकर चिंता भी हो सकती है। 

कन्या राशि

मंगल का गोचर आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में होना आपके लिए प्रतिकूल हो सकता है, लेकिन इस अवधि में आपके लिए धन लाभ के योग हैं। हालांकि इस दौरान खर्च भी काफी होंगे। वैसे आर्थिक पक्ष बेहतर होने के कारण आप निवेश के साथ ही अन्य क्षेत्रों पर ध्यान दे सकेंगे। इस अवधि में दांपत्य जीवन में परेशानी हो सकती है, लेकिन प्रेम संबंधों में आपको अपने साथी के प्रति ईमानदार होने की जरुरत है। विरोधी भी आपको नुकसान पहुंचाने का प्रयास कर सकते हैं, इसलिए सतर्क रहें। 

तुला राशि

मंगल का गोचर आपकी राशि से दसवें यानी कर्म भाव में हो रहा है। इस अवधि में आपको सावधानीपूर्वक आगे बढ़ने की जरूरत है। नौकरीपेशा लोगों और व्यवसायियों को नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि बाद में उन्हें अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। इस अवधि में पारिवारिक मामलों को लेकर भी संभलकर चलने की जरूरत है। अपनी वाणी और व्यवहार पर संयम रखें साथ ही स्वास्थ्य के प्रति भी सावधानी बरतें। खाने-पीने में भी सावधानी बरतने की जरुरत है। विद्यर्थियों को भी पढ़ाई में मन नहीं लगेगा। 

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि वालों के लिए मंगल का गोचर 9 वें यानी धर्म और भाग्य के भाव में हो रहा है। गोचर के इस प्रभाव से भाग्य बाधित होने के कारण आपको बेहतर परिणाम के लिए काफी संघर्ष करना पड़ सकता है। इसलिए आपको इस अवधि में कठिन परिश्रम करने की जरुरत है। वैसे इस अवधि में पुरानी चिंताओं और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से राहत मिल सकती है, लेकिन पिता के स्वास्थ्य को लेकर आपको चिंता हो सकती है। पारिवारिक संबंध खराब हो सकते हैं। पढ़ाई में भी कम मन लगेगा। ऐसे में ध्यान का सहारा लेना आपके लिए लाभदायक हो सकता है। 

धनु राशि 

 
धनु राशि वालों के लिए मंगल का परिवर्तन राशि से आठवें भाव में हो रहा है, जो आपके लिए परेशानी भी पैदा कर सकता है। इस अवधि में आपको स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं और दुर्घटनाओं के भी योग हैं। ऐसे में आपको वाहन चलाते वक्त सावधानी बरतने की जरुरत है। इस अवधि में कानूनी मामलों से दूर रहना आपके लिए हितकर होगा। इस अवधि में खर्च की अधिकता भी हो सकती है। वैसे इस अवधि में आपका वैवाहिक जीवन बेहतर हो सकता है। इस दौरान अपना और बड़ों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने की जरुरत है। 

मकर राशि

 
मंगल का परिवर्तन आपकी राशि से सातवें भाव में हो रहा है, ऐसे में आपको अपने दांपत्य जीवन को लेकर सावधान रहने की जरुरत है। अपने बात और व्यवहार में पारदर्शिता रखें, अन्यथा पारिवारिक जीवन प्रभावित हो सकता है। विवाह के इच्छुक लोग इस अवधि में नए लोगों की तरफ आकर्षित हो सकते हैं। इस अवधि में आपको स्वास्थ्य के प्रति भी सावधानी बरतने की जरुरत है। इस दौरान अपने खान-पान पर नियंत्रण रखें, अन्यथा आपको पेट संबंधी परेशानी हो सकती है। 

 कुंभ राशि- 

कुंभ राशि वालों के लिए मंगल का गोचर आपकी कुंडली के रोग और शत्रु के घर में हो रहा है, जो आपके लिए चिंता का कारण हो सकता है। इस अवधि में आपके रोग और शत्रुओं की संख्या में वृद्धि हो सकती है। इस अवधि में दूसरों के मामले में हस्तक्षेप करने से आपका ही नुकसान हो सकता है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य को लेकर चिंता हो सकती है। विद्यार्थियों को गलत संगति से दूर रहने की जरुरत है। इस दौरान आपके खर्चों में भी बढ़ोतरी हो सकती है।  

मीन राशि

 
कुंडली का पांचवा भाव संतान का भाव माना जाता है और मंगल आपकी राशि से पांचवे भाव में गोचर कर रहे हैं। इस गोचर के कारण आपके बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं, इसलिए उनका ध्यान रखें। आपसी गलतफहमियां न पैदा हों, इसका ध्यान रखें। इस अवधि में प्रेमी युगलों के बीच दूरी पैदा हो सकती है साथ ही किसी भरोसेमंद व्यक्ति से भी धोखा मिल सकता है। इस दौरान आपका दांपत्य जीवन बेहतर रहेगा। प्रेम संबंधों में सोच-समझकर आगे बढ़ें। हालांकि नौकरीपेशा लोगों को इस अवधि में लाभ हो सकता है। 

श्रीगणेशजी के आशीर्वाद के साथ










21 Jun 2019


View All blogs

More Articles