धनु राशि में तीन ग्रहों का महामिलन, धनु राशि जातकों को मिलेंगे ये लाभ, यहां बरतें सावधानी


Share on :


मंगल, गुरू और केतु का धनु में महासंयोजन राशि चक्र की तमाम राशियों पर अपने शुभ अशुभ प्रभाव डालने वाला है। इस दौरान कुछ राशियों को इसके दुष्प्रभावों का सामना करना होगा तो वहीं कुछ को इसके सकारात्मक प्रभावों से लाभांवित होने का मौका मिलेगा। राशि चक्र की नौंवी राशि धनु, अग्नि तत्व और द्विस्वभाव की राशि है। धनु क्षत्रियवर्ण की पुरूष संज्ञक, द्विपाद, रात्रि बलि, सम, पृष्ठोदय, अल्प प्रसव और विषम राशि है। 8 फरवरी 2020 से धनु राशि में अग्नि तत्व के मंगल, आकाश तत्व के गुरू और वायु तत्व के केतु का समायोजन होने वाला है।

धनु राशि में इन तीन विपरीत तत्व ग्रहों का एक साथ उपस्थित होना राशिचक्र के लिहाज से बेहद अहम हो जाता है। गणेशास्पीक्स के अनुभवी ज्योतिषीयों की टीम ने गुरू, मंगल, और केतु के धनु में समायोजन का राशिचक्र की सभी राशियों पर पड़ने वाले प्रभावों का अध्यन किया है। मंगल, गुरू और केतु जैसे तीन प्रभावी और बलवान ग्रहों का महासंयोजन धनु राशि जातकों पर अधिक गहरे और प्रत्यक्ष प्रभाव डालने वाला है। क्योंकि इन ग्रहों की तिकड़ी चंद्र राशि धनु कुंडली के पहले भाव में तैयार हो रही है। कुंडली का पहला भाव लग्न होकर शरीर, शक्ति, आकार, रंग, संरचना, आत्मविश्वास, संतोष, बल और कीर्ति जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों से होता है।

करियर

कुंडली का प्रथम भाव शरीर, बल और चरित्र का परिचायक होता है। धनु राशि के लग्न स्थान पर मंगल, गुरू और केतु का महासंयोजन धनु जातकों के जीवन में अमूलचूल परिवर्तनों का साक्षी बनने वाला है। इस समयावधि के दौरान आप खुद को अधिक ऊर्जावान और उत्साहित महसूस करेंगे। इस महायुति के प्रभावों में आपको अति आत्मविश्वास और रूबाब झाड़़ने से बचना चाहिए। इस दौरान आप में निर्विघ्न तीव्र ऊर्जा का प्रवाह होने वाला है, जिसके आवेग में आपकी अपने वरिष्ठ या उच्च अधिकारियों से बहस की संभावनाओं को बल मिलता है। इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि मंगल, गुरू और केतु के महासंयोजन के दौरान आप शांत रहें और लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हर परिस्थिति पर प्रतिक्रिया देने से बचें।

व्यापार-व्यवसाय

धनु में तैयार हो रही मंगल, गुरू और केतु की महायुति के प्रभाव में आप अधिक एकाग्र और कुशलता से अपने कार्यों को अंजाम देने वाले है। इस दौरान व्यापार व्यवसाय से संबंधित कार्यों में आप अपने निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अपनी क्षमताओं का कुशलता से उपयोग करने वाले है। इस दौरान अपने व्यापार व्यवसाय को उसके चरम पर पहुंचाने के लिए आपके पास सकारात्मक ऊर्जा का भंडार रहने वाला है। आपका उच्च आत्मविश्वास भी इस दौरान आपके फ़ैसलों पर गहरा प्रभाव डालने वाला है। हालांकि इस दौरान आपको अचानक असहज भी महसूस हो सकता है, इस समयावधि में आपका मन किसी बालक की भांति चंचल रहेगा, जिससे आपको सावधान रहने की भी जरूरत है।

प्रेम संबंध

केतु, मंगल और गुरू की महायुति का धनु कुंडली के लग्न भाव में आपके अधिकार संपन्न होने की ओर इशारा करता है। इस दौरान आपको अपने प्रेम संबंधों में सहजता का भाव पैदा करना होगा, इस दौरान आपको अपने साथी के विचारों और दृष्टिकोण को सम्मान देना चाहिए। आपको अपने विचारों और दृष्टिकोण को अपने साथी पर थोपने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। ऐसा करने से आपके रिश्ते में कड़वाहट या मन-मुटाव की स्थिति पैदा हो सकती है। इस दौरान आपको अधिक उम्मीद करने से भी बचना चाहिए साथ ही अपने अहंकार को किनारे कर अपने साथी को अपनी स्थिति से अवगत करवाना चाहिए। इस दौरान आप गहरे रोमांटिक पलों के लिए तरस सकते है।


निजी या वैवाहिक जीवन

कुंडली के प्रथम भाव में तैयार हो रहे मंगल, गुरू और केतु के समायोजन से आपके विचारों में असमानता पैदा होने की संभावना है। इस दौरान आपको मिल रही निर्विघ्न ऊर्जा आपके विचारों में प्रतिरोध पैदा करने काम कर सकती है। इसके प्रभाव में आप कभी बेहतर तो कभी नकारात्मक महसूस कर सकते है। इस दौरान आपके परिजन या जीवन साथी को अपने ऐसे बर्ताव को समझने में मुश्किलों का समान करना पड़ेगा, जिसके कारण कुछ दुष्प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान मिल रहा ऊर्जा का उच्च स्तर आपको आपे से बाहर करने के लिए भी काफी है, इसलिए सावधान रहें और धैर्य बनाए रखें।

स्वास्थ्य

मंगल, गुरू और केतु का महासंयोजन आपके स्वास्थ्य पर मिलाजुला प्रभाव डालने वाला है। इस दौरान आप अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक सजग रहते हुए अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए अधिक समर्पण और गंभीर प्रयास करने वाले है। आप निवाकर और उपचारात्मक उपायों के उपयोग से खुद को आने वाले संक्रमण या रोगों से सुरक्षित रखने का प्रयास करेंगे। हालांकि अत्यधिक कसरत, व्यस्त दिनचर्या और बहुत अधिक भागदौड़ आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

05 Feb 2020


View All blogs

More Articles