कुंडली के तीसरे भाव में गुरू का महत्व


Share on :

बृहस्पति जिन्हे गुरू कहकर भी संबोधित किया जाता है, वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति को ग्रहों के गुरू के रूप् में मान्यता प्राप्त है। सामान्य मानवी के लिए भी गुरू आध्यात्मिक शिक्षक या गुरु की भूमिका निभाते है। यह एक लाभकारी ग्रह है जो उच्च ज्ञान, सीखने, आध्यात्मिकता, बौद्धिकता जैसे क्षेत्रों से संबंध रखता है। गुरू एक विशाल और भव्य ग्रह है। कुंडली का तीसरा स्थान पराक्रम भाव के नाम से जाना जाता है, और वीरता, धैर्य, दोस्त, पराक्रम, लेखन कार्य और लघु प्रवास जैसे क्षेत्रों से संबंध रखता है। बृहस्पति एक लाभकारी ग्रह है और अपने स्वभाव के अनुरूप तीसरे घर की संभावनाओं को बढ़ाने की क्षमता भी रखता है। गुरू कुंडली में सकारात्मक प्रभावों को बढ़ाने की क्षमता रखता है। इसलिए कुंडली के तीसरे भाव में गुरू जिज्ञासा रोमांच, मानसिक क्षमता, फोकस और  बदलाव की इच्छा जैसे क्षेत्रों को प्रभावित कर सकता है। 

सकारात्मक प्रभाव 

कुंडली के तीसरे भाव में गुरू जातक को अच्छा योजना कार बनाने को कार्य कर सकते है। गुरू का तीसरे भाव से संबंध होने पर वे जातक को सुयोग्य प्रबंधक बनाने का कार्य कर सकते है। ऐसे जातक अत्यधिक उत्सुक और दूसरों के साथ संबंध बनाने में आनंद प्राप्त करने वाले होते है। वे विचारों को साझा करने में खुशी महसूस करते हैं। वे बड़ी तस्वीर देखने में सक्षम हैं और अक्सर सलाह और सुझावों के लिए दूसरों की ओर रुख करते हैं। तीसरे घर में बृहस्पति के मूल निवासी उच्च मानसिक क्षमता रखते हैं। वे सहज होने की संभावना रखते हैं। बृहस्पति अापकी मानसिक शक्ति का विस्तार करेगें ताकि अाप नई जानकारी को जल्दी और चीजों को सहजता से समझ सकें। तृतीय भाव में बृहस्पति की नियुक्ति जातक को शिक्षा के क्षेत्र में मदद कर सकती है। ऐसे जातक लेखन और साहित्यिक क्षेत्रों में उत्कृष्टता प्राप्त करने की संभावना रखते हैं। साथ ही, बृहस्पति भाई-बहन, पड़ोसियों, परिवार के सदस्यों और संघों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध को सक्षम बनाने की क्षमता रखते है।

हालांकि, जिन जातकों की कुंडली के तीसरे घर में गुरू मौजूद है उन्हे सावधान रहने की भी आवष्यकता है। उन्हे इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि वे अपनी ऊर्जा को अलग-अलग दिशाओं में न बिखेरें। उन्हें एक लक्ष्य का पीछा करना चाहिए और उस पर काम करना चाहिए। इसके अलावा, बृहस्पति का यह स्थान उन्हें लंबी दूरी की यात्रा करने का अवसर देगा। इसके अलावा जब यह प्रतिगामी होता है, तो जातक मूल बातें बहुत कम करता है। जीवन में आगे बढ़ने के लिए उन्हें बहुत संघर्ष करना पड सकता है। तीसरे घर में गुरू की मौजूदगी महिला जातकों को अपने प्रियजनों विशेष रूप से अपने पति की अधिक देखभाल करने के लिए प्रेरित कर सकती है। ऐसे जातक जब भी अपने निकट और प्रिय लोगों के साथ समय बिताते हैं तो उनमें देखभाल की भावनाओं को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। तृतीय भाव में बृहस्पति जातक को आध्यात्मिक रूप से सक्षम होने के लिए प्रेरित कर सकते है। हालांकि उन्हें इसे प्राप्त करने के लिए अपने प्रियजन और मित्रों के साथ की आवश्यकता हो सकती है। जिन जातकों की कुंडली के तीसरे भाव में गुरू मौजूद है उन्हें अपने क्षितिज का विस्तार करने की आवश्यकता होती है अन्यथा वे सुस्त महसूस कर सकते हैं।

नकारात्मक 

जब बृहस्पति तीसरे घर में प्रतिगामी होते है, तो ऐसे जातको को सदैव अप्रत्याशित यात्रा के लिए तैयार रहना चाहिए। उन्हें यात्रा करते समय सदैव किसी ना किसी को साथ रखने का प्रयास करना चाहिए इससे उन्हे लाभ मिलने की संभावना होती है। इसके अलावा, उन्हें एक समय में एक से अधिक विषयों पर ध्यान केंद्रित करने का प्रयास करना चाहिए, ऐसा करने से उनके ज्ञान भंडार में बढ़ोत्तरी की संभावना नजर आती है। जब तीसरे घर में गुरू दुर्बल होते है, तो वे जातकों को बहुत से नए लोगों और नए अनुभवों से आसानी से अभिभूत करने का कार्य कर सकते है। इसलिए ऐसे जातकों को एक स्थिति से तब तक आगे नहीं बढ़ना चाहिए, जब तक कि वे उससे सब कुछ प्राप्त न कर लें। कुंडली के तीसरे भाव में गुरू जातक को भाग्यशाली और प्रभावी बनाने को कार्य कर सकता है। ऐसे जातक अपनी सद्भावना दूसरों तक फैला सकते हैं। कुंडली के तीसरे घर में गुरू जातक को ऐसे महसूस करवा सकते हैं जैसे कि उन्हें एक ही समय में कई अलग-अलग दिशाओं में खींचा जा रहा है। ऐसे जातकों के जीवन में तनाव बना रह सकता है।

निष्कर्ष 

जब गुरू कुंडली के तीसरे भाव में होता है तब वह अपने स्वभाव के अनुसार जातक को आध्यात्मिक बनाने का कार्य कर सकते है। ऐसे जातक गतिशील, बलवान और अग्रगामी होते है। हालांकि उन्हें अपने कार्यों में ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती है। ऐसे जातकों को अपने निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कडे़ प्रयत्न करने की आवश्यकता होती है। 

02 Apr 2020


View All blogs

More Articles