झारखण्ड विधानसभा चुनाव 2019 : हर तरह से देश की सबसे अनूठी विधानसभा के चुनावों की संपूर्ण पटकथा


Share on :


15 नवंबर 2000, वो तारीख़ जब हिंदुस्तान के एक पूर्वी राज्य बिहार के दो टुकड़े करके एक नए राज्य का गठन किया गया। जिसका नाम “झारखण्ड” रखा गया। 30 नवंबर से उसी राज्य में पांचवी विधानसभा के लिए मतदान प्रक्रिया शुरू होने जा रही है। झारखण्ड के 19 साल के इस छोटे राजनीतिक सफर में कई बार बड़ी-बड़ी उठा-पटक और उथल-पुथल हुई है। झारखण्ड ही देश की एकमात्र ऐसी विधानसभा है जहां 19 साल में 10 मुख्यमंत्री बने। लेकिन उनमें से किसी ने भी अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया। सिवाए वर्तमान मुख्यमंत्री रघुवर दास के जिनको भी अभी तक पूरे 5 साल नहीं बल्कि 4 साल 10 महीने हुए हैं। इसके अलावा झारखण्ड ही ऐसा इकलौता राज्य है जहाँ सिर्फ 19 साल में ही अब तक 3 बार राष्ट्रपति शासन लागू हो चुका है। साथ ही झारखण्ड में कई मुख्यमंत्री भी ऐसे रहे हैं जो मात्र 19 साल में ही 3-3 बार मुख्यमंत्री बन चुके हैं। इतनी खूबियों से भरे राज्य के पांचवें विधानसभा चुनावों के बारे में संपूर्ण जानकारी हम आपको यहाँ देने जा रहे हैं।

पांच चरणों में होंगे झारखण्ड विधानसभा चुनाव 2019

1 नवंबर 2019 को चीफ़ इलेक्शन कमिश्नर सुनील अरोड़ा ने घोषणा की कि झारखण्ड विधानसभा चुनाव 2019 की सभी तैयारियाँ पूरी हो चुकी है और 30 नवंबर से लेकर 20 दिसंबर तक प्रदेश की 81 विधानसभा सीटों के लिए पांच चरणों में चुनावी प्रक्रिया संपन्न की जाएगी। जिनकी जानकारी निम्न प्रकार है।

पहला चरण : – झारखण्ड विधानसभा चुनाव 2019 के पहले चरण के चुनाव 30 नवंबर को होंगे जिसमें 13 सीटों के लिए मतदान प्रक्रिया होगी। जिसके लिए नोटिफ़िकेशन जारी करने की तारीख 6 नवंबर रखी गयी। नामांकन भरने की अंतिम तिथि 13 नवंबर और नामंकनों की जांच व समीक्षा करने के लिए 14 तारीख तय की। जबकि 16 नवंबर तक इच्छुक उम्मीदवार अपना नामांकन वापिस ले सकते हैं।

दूसरा चरण : – दूसरे चरण में ही प्रदेश का सबसे दिलचस्प चुनावी मुकाबला होगा। क्योंकि राज्य के ज़्यादातर दिग्गज नेता इसी चरण में चुनाव लड़ेंगे। विधानसभा चुनावों का दूसरा चरण 7 दिसंबर को होगा जिसमें 20 सीटों के लिए मतदान होगा। दूसरे चरण के नोटिफ़िकेशन जारी करने की तारीख 11 नवंबर है। नामांकन भरने के अंतिम तिथि 18 नवंबर। नामंकनों की जांच व समीक्षा करने की 19 तारीख तथा नामांकन वापिस लेने की अंतिम तारीख 21 नवंबर है। इस चरण में ही फैसला हो जायेगा कि झारखण्ड में इस बार किसकी सरकार बनेगी। मुख्यमंत्री रघुवर दास, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, मंत्री सरयू राय, नीलकंर्ठ सिंह मुंडा, रामचंद्र सहिस और स्पीकर दिनेश उरांव जैसे चोटी के नेताओं की क़िस्मत का फैसला भी जनता दूसरे चरण में ही करेगी।

तीसरा चरण : – झारखण्ड विधानसभा की 13 सीटों पर 12 दिसंबर को तीसरे चरण में चुनाव होगा। जिसके नोटिफ़िकेशन की तिथि 16 नवंबर, नामांकन का आख़िरी दिन 25 नवंबर, नामांकन समीक्षा का दिन 26 नवंबर, तथा नामांकन वापसी की अंतिम तारीख़ 28 नवंबर होगी। इसके बाद सभी प्रत्याशियों को चुनाव में भाग्य आज़माना पड़ेगा।

चौथा चरण : – प्रदेश की 15 विधानसभा सीटों के लिए 16 दिसंबर को चौथे चरण के चुनाव होंगे। जिनकी नोटिफ़िकेशन तारीख़ 22 नवंबर, नामांकन का आख़िरी दिन 29 नवंबर, नामांकन समीक्षा का दिन 30 नवंबर, तथा नामांकन वापसी की आख़िरी तारीख़ 2 दिसंबर होगी।

पांचवा चरण : – झारखण्ड विधानसभा चुनाव 2019 का पांचवा और अंतिम चरण 20 दिसंबर को संपन्न होगा। जिसके लिए नोटिफ़िकेशन जारी करने की तारीख़ 26 नवंबर होगी। नामांकन दाखिल करने के लिए 3 दिसंबर तय किया गया है। नामांकनों की समीक्षा 4 दिसंबर को की जाएगी। जबकि नामांकन वापिस लेने की आख़िरी तारीख़ 6 दिसंबर होगी।

19 Nov 2019


View All blogs

More Articles