कुंडली के प्रथम या लग्न भाव में शुक्र की महत्ता


Share on :


ज्योतिष में कई अन्य संयोजनों की तरह, प्रथम भाव और शुक्र का संयोजन भी एक दिलचस्प और समृद्ध घटना है। पहला भाव समस्त ज्योतिषीय निष्कर्षों का आधार होता है, क्योंकि यह जातक से सीधा संबंध रखता है। इसे व्यक्ति की स्व-पहचान के रूप में किया जाता है, इसलिए अन्य सभी भावों का अध्ययन भी पहले भाव के अनुसार ही क्या जाता है। शुक्र ग्रह प्रेम, रोमांस, आनंद, सद्भाव और कुछ इसी प्रकार की भावनाओं को प्रभावित करने वाला ग्रह है। जब शुक्र प्रथम भाव में मौजूद होता है, तो जातक एक आकर्षक और विनम्र व्यक्ति होने की संभावना रखते हैं। इसके अलावा, जातक अंदर सुंदरता की परख होती है और वे सौंदर्य की अपील करने वाली हर चीज की प्रशंसा करते हैं।

प्रथम या लग्न भाव में शुक्र के कारण प्रभावित क्षेत्र

रिश्तों
व्यक्तित्व
लोगों के प्रति रवैया
जीवन के प्रति योग्यता
पेशेवर जीवन और विकास

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

ऐसे जातक एक आकर्षक व्यक्तित्व वाले होते हैं। लोगों का इनके साथ रहने और समय बिताने का मन करता है। ये जीवन में जो भी चाहते हैं वह आसानी से इनके पास आ जाती है। लेकिन फिर भी लोगों के साथ बातचीत करते समय इन्हें ईमानदारी अपनानी चाहिए और अपने आकर्षण और चुंबकत्व का गलत फायदा नहीं उठाना चाहिए। अपने जीवन में अधिक सफलता पाने के लिए आज ही अपना व्यक्तिगत वार्षिक राशिफल 2020 प्राप्त करें अभी!

प्रथम भाव में शुक्र हमेशा एक मजबूत छाप छोड़ता है। ये स्वयं को व्यक्त करना पसंद करते हैं, ये जो हासिल करना चाहते हैं, उसके लिए प्रयास करने से डरते नहीं हैं। ये न केवल शारीरिक रूप से सुंदर होते हैं, बल्कि इनके पास एक सुंदर दिमाग भी होता है। जानिए कैसे शुक्र आपके जीवन को और अधिक सुंदर बना सकता है।

ऐसे जातकों के कला, वास्तुकला और फैशन जैसे व्यवसायों का चयन करने की अधिक संभावना होती है। इनके अपने पेशे में उत्कृष्टता प्राप्त करने की संभावना होती है। ये न केवल अपने शहर में बल्कि दूर देश और राष्ट्रों में भी मान्यता प्राप्त करते हैं। हालाँकि, इनको अपने कौशल और दक्षता के बारे में अभिमानी या घमंडी बनने से बचना चाहिए।

इसके अलावा, ये खुशी और प्रसन्नता में विश्वास करते हैं। इन्हें बाहर जाना और मस्ती करना पसंद होता है। यही कारण है कि ये एक रिश्ते में होने का आनंद लेते हैं। वास्तव में, जब आप एक नया रोमांटिक रिश्ता शुरू करते हैं तो ये बहुत उत्साहित महसूस करते हैं, क्योंकि सब कुछ इतना ताज़ा और रोमांचक होता है।

नकारात्मक लक्षण/प्रभाव

पहले भाव में शुक्र वाले जातक मूडी और गुस्सैल हो सकते हैं। ये नखरे दिखाने और ज़िद्दी बच्चे की तरह व्यवहार करने की आदत में पड़ सकते हैं। इन्हें स्वार्थी और अहंकारी होने से बचना चाहिए। रचनात्मकता वांछनीय है। वास्तव में, यह अच्छा है। लेकिन रचनात्मकता की अधिकता वास्तविक व्यवहार को बाधित नहीं करनी चाहिए।

पहले भाव में शुक्र वाले जातकों को अपनी बहादुरी का दिखावा नहीं करना चाहिए। उन्हें वाहवाही लूटने के लिए झूठी भावना का प्रदर्शन नहीं करना चाहिए। ऐसी स्थितियाँ आ सकती हैं, जब ये किसी बात को लेकर अनिश्चित हों, तब ये दूसरों को इसके बारे में पता नहीं लगने देना चाहते हों। तो, ऐसे में इनका मार्गदर्शन बहुत तथ्यात्मक नहीं हो सकता है। अन्य लोग इन पर विश्वास कर सकते हैं, और इनके सुझावों का पालन कर सकते हैं, लेकिन वे परेशानी में पड़ सकते हैं, क्योंकि इनकी सलाह हर बार उचित नहीं होती। जिससे इनकी विश्वसनीयता को नुकसान पहुंचने की संभावना भी होती है।

जब शुक्र पहले भाव में होता है, तो कुछ लोगों को इनसे समस्या हो सकती है। हो सकता है कि लोग इनकी उम्मीदों पर खरे न उतरें, जो इनको परेशान कर सकते हैं और बदले में वे इन्हें अहंकारी मान सकते हैं। लेकिन अगर ये किसी ऐसे व्यक्ति को ढूंढ लेते हैं, जो इन्हें पता हो की वे क्या कर सकते हैं, तो वे इनके जीवन के लिए एक अच्छे साथी हो सकते हैं। इसमें कुछ समय लग सकता है, और इतना धैर्य रखना इनके बस की बात नहीं है। हालाँकि, इन्हें सलाह है कि इस मामले में ये कोई जल्दबाजी न करें और थोड़ा समय दें। तो ये ज्यादा खुश रहेंगे। आप भी अपने बारे में बहुत कुछ जान सकते हैं, अपनी जन्मपत्री की सहायता से, तो आज ही अपनी व्यक्तिगत जनमपत्री प्राप्त करें!

निष्कर्ष

कुंडली के पहले भाव में शुक्र की उपस्थिति वाले जातक आकर्षक व्यक्तित्व के और लोगों के बीच काफी लोकप्रिय होते हैं। ये सुंदरता और एक अच्छे सौंदर्य बोध की प्रशंसा करते हैं। हालांकि, इनको लोगों के सामने ऐसे पेश नहीं आना चाहिए जो ये वास्तव में नहीं होते। वास्तविक होना हर किसी के लिए अच्छा होता है। लेकिन इन लोगों के लिए अधिक बेहतर होता है, क्योंकि ये पहले से ही इतने सारे गुणों से परिपूर्ण होते हैं।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

07 Feb 2020


View All blogs

More Articles