कुंडली के तीसरे भाव में सूर्य की महत्ता, व्यक्ति को वाक्पटुता और चपलता प्रदान करती है


Share on :


वैदिक ज्योतिष में कुंडली के तीसरे भाव को सहज भाव के रूप में जाना जाता है। यह संचार और पत्राचार के सभी प्रकार के नियमों को पूरा करता है। यह इस बात से संबंधित है कि हम लोगों के साथ कैसे जुड़ते हैं और सूचनाओं का आदान-प्रदान कैसे करते हैं। यह भाव टेलीफ़ोन, मीडिया, टीवी, रेडियो, डाक, सोशल मीडिया, टेलीग्राफ़ी, आदि जैसे संचार के विभिन्न तरीकों पर शासन करता है। इस घर में सूर्य की उपस्थिति एक व्यक्ति के बातूनी झुकाव को बढ़ावा देती है। कुंडली के तीसरे भाव में सूर्य वाले जातक यात्रा करना पसंद करते हैं, जिसमें उन्हें संतुष्टि और तृप्ति मिलती है।

तृतीय भाव में सूर्य के कारण प्रभावित क्षेत्र

व्यवसाय
लोगों के प्रति रवैया
उच्च शिक्षा और सीख
स्वयं के प्रति दृष्टिकोण

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

खैर, ऐसे लोगों के व्यक्तित्व की मुख्य विशेषता इनकी निस्वार्थता होती है। ये सभी की मदद करते हैं। जो जन्मजात होती है, यह इनके अंदर बहुत स्वाभाविक रूप से होता है। साथ ही, ये अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों के बहुत करीब होते हैं। ये उन्हें हर संभव समर्थन और सहायता प्रदान करने में अतिरिक्त प्रयास करते हैं।

तीसरे भाव में स्थित सूर्य वाले जातक एक विकसित दिमाग वाले होते हैं। ये बौद्धिक रूप से काफी तेज तथा महत्वाकांक्षा और गर्व की उच्च भावना से भरे हुए होते हैं। ऐसे जातक एक मजबूत दृढ़ इच्छाशक्ति से भी संपन्न होते हैं, जो उन्हें आत्मनिर्भर बनाती है। यह इन्हें जीवन में कुछ प्राप्त करने की भूख प्रदान करता है। तीसरे भाव में स्थित सूर्य वाले जातक सभी बाधाओं और कठिनाइयों के बावजूद जीवन में आगे बढ़ते रहते हैं।

ये इस बारे में बहुत स्पष्ट होते हैं कि वे क्या चाहते हैं और वे किस पर विश्वास करते हैं। उनके पास एक बुरा मन नहीं होता। इनकी स्पष्टता इनके आत्मविश्वास को बढ़ाती है। ये जो कुछ भी हासिल करना चाहते हैं उसे हासिल करने में सक्षम होते हैं।

साथ ही जिन जातकों की कुंडली में सूर्य तीसरे भाव में स्थित होता है, वे ज्ञान और बुद्धिमत्ता को बहुत अधिक महत्व देते हैं। वे केवल ज्ञान प्राप्त करने में ही विश्वास नहीं करते हैं, बल्कि उसे अपने नज़दीकी और प्रिय लोगों, दोस्तों और शुभचिंतकों के साथ भी साझा करते हैं। तीसरे भाव में सूर्य की उपस्थिति वाले जातकों के अंदर नई चीजें सीखने और प्रयोग करने के लिए एक मजबूत लालसा होती है। जैसा कि वे सीखना चाहते हैं, वे अलग-अलग जगहों पर यात्रा करने और दुनिया को, उसके अलग-अलग दृष्टिकोणों को देखना पसंद करते हैं।

जबकि ये घूमना और अलग-अलग विचारों को खोजना पसंद करते हैं, ये आसानी से नए विचारों और अवधारणाओं पर भरोसा नहीं करते हैं। किसी भी नए विचार या अवधारणा में विश्वास विकसित करने से पहले ये कुछ सबूत चाहते हैं। उसके बाद ही ये किसी बात, व्यक्ति या घटना पर विश्वास करते हैं।

तीसरे भाव में सूर्य की उपस्थिति वाले जातक गणित और विज्ञान के बजाय नाटक और प्रदर्शन कला के प्रति अधिक झुकाव रखते हैं। इसलिए, वे जीवन के व्यावहारिक पहलुओं के प्रति अधिक झुकाव रखते हैं।

नकारात्मक लक्षण,प्रभाव

एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जहां उन्हें सावधान रहने की जरूरत है। उनकी बौद्धिक बौद्धिकता बहुत अच्छी है, लेकिन उन्हें गर्व और अधीरता से बचना चाहिए। उनके पास यह विशेषता है, उन्हें लगता है कि वे हमेशा सही हैं। यह उनके और उनके आसपास के लोगों के बीच कुछ ग़लतफ़हमियाँ पैदा कर सकता है। वे हमेशा उन लोगों के साथ बहुत सहज संबंध नहीं रख सकते हैं, जो उनके करीब होते हैं।

तीसरे भाव में सूर्य की उपस्थिति वाले जातक दूसरों की मदद करने के लिए कोई भी संकट उठाने के लिए तैयार रहते हैं। जिसे कुछ लोग हस्तक्षेप के रूप में देख सकते हैं। इस प्रकार, उन्हें सावधान रहना चाहिए। दूसरों की मदद करने का सबसे अच्छा उपाय है कि जब यह पूछा जाए या जब आवश्यक हो तब ही मदद करनी चाहिए।

तीसरे भाव में स्थित सूर्य वाले लोगों को अपनी शैक्षिक योग्यता और बौद्धिक क्षमताओं को प्रदर्शित करते समय सावधान रहने की आवश्यकता है। इसे दिखाबे के रूप में प्रस्तुत नहीं करना चाहिए। यह ऐसा प्रतीत होता है, जैसे वे अपनी ताकत के बारे में शेखी बघार रहे हों। अगर वे इस मोर्चे पर ध्यान नहीं देते हैं, तो इससे उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान हो सकता है। अपनी व्यक्तिगत जन्मपत्री के साथ अपनी ताकत और कमजोरियों के बारे में अधिक जानें।

निष्कर्ष

चूँकि तीसरा भाव संचार के बारे में है। इसलिए, जब सूर्य इस भाव में स्थित होता है, तो व्यक्ति काफी बातूनी और स्पष्टवादी बन सकता है। कभी-कभी, व्यक्ति कुछ ऐसा भी कह सकता है, जो लोगों को अच्छा न लगे। यह उन्हें कष्ट में भी डाल सकती है। इस प्रकार, उन्हें इस मामले में सावधान रहने की आवश्यकता है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी से बात करें अभी!
गणेश की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

28 Jan 2020


View All blogs

More Articles