श्रावण शिवरात्रि 2017: गणेशजी से जानें सुख,शांति आैर समृद्घि पाने के उपाय


Share on :


हिन्दू कलैंडर में श्रावण मास प्रकृति की सुंदरता आैर विभिन्न शुभ उत्सवों के कारण सबसे सुंदर माह माना जाता है। हर वर्ष, सावन माह अपने साथ सुखद मौसम अौर दिव्यता लाता है। वर्ष 2017 में भी हम एक बार फिर से श्रावण मास में भगवान शिव के आशीर्वाद से प्रकृति के इन खूबसूरत बदलावों का अनुभव कर रहे है। शिवरात्रि, जो कि हिन्दू कलैंडर में श्रावण मास में आती है, उसे सावन शिवरात्रि या श्रावण शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। 

श्रावण शिवरात्रि उत्तर भारतीय राज्यों जैसे उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश आैर बिहार में अधिक लोकप्रिय है जहां पूर्णिमांत चंद्र कलैंडर का अनुसरण किया जाता है। वहीं आंध्रप्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात, तमिलनाडु जैसे स्थान जहां अमावस्यांत चंद्र कलैंडर को फाॅलो किया जाता है वहां सावन शिवरात्रि आषाढ़ शिवरात्रि से मेल खाती है। उत्तर भारत के प्रसिद्घ शिव मंदिर काशी विश्वनाथ आैर बद्रीनाथ धाम में श्रावण माह के दौरान शिवजी की विशेष पूजा-अर्चना आैर दर्शन का आयोजन किया जाता है। अगर आप श्रावण में यहां दर्शनार्थ जाते है, तो आप देख सकते है कि हजारों की संख्या में श्रद्घालु भोलेनाथ का गंगाजल से मंत्रोच्चार के बीच अभिषेक करते है।  

श्रावण शिवरात्रि 2017 के उपाय 

1) महामृत्यंजय मंत्र का जाप करें

सावन शिवरात्रि के शुभ अवसर पर, अगर आप शक्तिशाली महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करते है, तो आप संसारिक सुख, दैव्य सुरक्षा, आराम आैर विलासिता का सुख प्राप्त करेंगे। 

मंत्र: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||

“ हम एेसे देवता की पूजा करते है जो त्रिनेत्रधारी है आैर सभी प्राणियों के जीवन को बनाए रखते है। हे भगवान, हमें जन्म-मृत्यु के चक्र से मुक्त करें आैर हमें मोक्ष प्राप्त करने में सहायता करें।” 

2) महा मृत्युंजय यंत्र 

भौतिक लाभ को बढ़ावा दें आैर अपने समग्र कल्याण में वृद्घि पाए। भाैतिक सुख को बढ़ावा देने आैर दैवीय आशीषों का लाभ उठाने के लिए अपने पूजा कक्ष में महामृत्युंजय यंत्र का स्वागत करें जो आपको खतरों से बचाएगा। 

3) शनि-केतु शापित दोष निवारण यंत्र 

किसी भी नकारात्मक प्रभाव को रोकने आैर श्रावण शिवरात्रि की सकारात्मक शक्ति बढ़ाने के लिए घर में शनि केतु शापित दोष निवारण यंत्र लेकर आए। शांतिपूर्ण, समृद्घ आैर सामंजस्यपूर्ण जीवन जीने के लिए शनि आैर केतु को खुश करना आवश्यक है। इस महत्वपूर्ण दिन पर ये यंत्र अपने घर लाए। 

4) चंद्र राहु ग्रहण योग निवारण यंत्र 

रूद्राभिषेक करें आैर इस यंत्र को घर लाए। भक्तों का मानना है कि श्रावण शिवरात्रि पर भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए रूद्राभिषेक वो धार्मिक आयोजन है जो सबसे पवित्र है। अच्छा भाग्य आैर किस्मत पाने के लिए ये आयोजन सूर्यास्त के समय करें। दरअसल भक्तों का ये मानना है कि इस निश्चित समय में भगवान शिव तांडव नृत्य करते है। रूद्राभिषेक के दौरान, भगवान शिव अपने रूद्र अवतार में आदृत होते है। इस श्रावण शिवरात्रि पर इस पवित्र धार्मिक अनुष्ठान का पालन करें आैर जीवनभर अनंत सफलता, समृद्घि आैर संपत्ति प्राप्त करें।

जीवन की सभी मुश्किलें आैर चिंताएं क्रमशः दूर हो जाएगी, अगर आप अपने घर चंद्र राहु ग्रहण योग निवारण यंत्र लेकर आते है।

5) राहु यंत्र 

उपवास रखें आैर इस यंत्र को घर लाए। व्रत करने वाले दिन अाप आत्मसंयम रखने की प्रतिज्ञा कर सकते है। अगर आप जिंदगी में अच्छी सेहत, समृद्घि आैर किस्मत को पाना चाहते है तो श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार का शिव की पूजा करें आैर इस दिन व्रत रखें। इसके अलावा, राहु यंत्र की पूजा करने से आपको जिंदगी में अधिक साहस के साथ विभिन्न चुनौतियों का सामना करने में मदद मिलेगी आैर ये आपको विभिन्न समस्याआें का समाधान ढूंढने में भी मदद करेगा। इसलिए शुभ दिन पर राहु यंत्र को अपने घर के पूजा स्थल पर स्थापित करें।  

गणेशजी के आशीर्वाद सहित, 

20 Jul 2017


View All blogs

More Articles