कुंडली के प्रथम भाव में केतु की महत्ता


Share on :


वैदिक ज्योतिषी के अनुसार केतु एक बिना सिर वाला ग्रह है, जिसे चंद्रमा का दक्षिण (या अवरोही) ध्रुव भी कहा जाता है। राहु की तरह, यह ग्रह भी वास्तविक खगोलीय नहीं है। बल्कि यह एक आभासी या छाया ग्रह है, जो आँखों के लिए तो अदृश्य है, लेकिन ब्रह्मांडीय व्यवस्था का एक आवश्यक बिंदु है। हालांकि केतु एक हानिकारक ग्रह है, किंतु यह राहु की तरह हानि नहीं पहुँचाता है। यद्यपि केतु जीवन में दुराचार लाता है, इसे मोक्ष या मुक्ति का कारक भी माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि पहले भाव में केतु की उपस्थिति वाले जातक रहस्यमय व्यक्तित्व हो सकते हैं, और दूसरों के लिए उनको समझ पाना बहुत मुश्किल हो सकता है।

प्रथम भाव में केतु के कारण प्रभावित क्षेत्र

संबंध
स्वभाव
सामाजिक छवि
अध्यात्म के प्रति दृष्टिकोण

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में केतु वाले जातकों का व्यक्तित्व चुंबकीय होता है, और रहस्यमयी भी। लोग इनसे मिलना और बात करना चाहते हैं। ये जो बात करते हैं, वे हमेशा स्पष्ट नहीं होती। ये ऐसी बातें कह सकते हैं, जिनका अर्थ बहुत गहरा होता है। इनको यात्रा करना पसंद है। ये बहुत बार बाहर जाना पसंद करते हैं। इनको रोमांच की सख्त जरूरत होती है। ये विभिन्न शहरों, राज्यों और देशों की यात्रा और खोज करके अपनी आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

राहु ग्रह का संबंध जीवन के अनुभवों, आध्यात्मिकता, त्याग और कर्म और पुनर्जन्म की अवधारणा से होता है। कहा जाता है कि राहु देने वाला है और केतु लेने वाला है। राहु किसी व्यक्ति को बुराई में डालता है, और केतु उन्हें एहसास दिलाता है कि वे गलत क्षेत्र में हैं, और उन्हें धार्मिक और नैतिक तरीके से वापस जाने की आवश्यकता है। तो राहु द्वारा की गई हानि को केतु द्वारा ठीक की जा सकती है। वर्ष 2020 में किसी भी प्रकार की हानि से बचने के लिए अपना विस्तृत व्यक्तिगत राशिफल 2020 खरीदें और नुक्सान से बचें।


नकारात्मक लक्षण/प्रभाव

कुंडली के पहले भाव में केतु की उपस्थिति के कारण साहसी और खोज पूर्ण होना अच्छी बात है। लेकिन जातकों को अपनी संगत के प्रति भी सचेत रहना चाहिए। यदि आप बुरी संगत में पड़ जायेंगे तो आपके लिए स्थिति और भी मुश्किल हो सकती है। आपके स्वार्थी और लालची बनने की संभावना भी हो जाती है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप अपनी नैतिकता न खोएं अन्यथा जीवन आपके लिए दुष्कर हो सकता है।

यदि केतु बुरी तरह से पीड़ित है, तो यह आपके स्वास्थ्य को ख़राब कर सकता है और आपकी सहनशक्ति को कम कर सकता है। अगर ऐसा होता है, तो व्यक्ति एक बहुत ही दयनीय स्थिति में पहुँच सकता है। पहले भाव में केतु होने के कारण जातकों को आत्मविश्वास और साहस की कमी का अहसास भी हो सकता है।

इसके अलावा, जिन जातकों की कुंडली के प्रथम भाव में केतु होता है, उनका शारीरिक निर्माण कमज़ोर होता है और वे मानसिक रूप से भी कमजोर इच्छाशक्ति वाले होते हैं। ऐसे जातक जीवन की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम नहीं हो सकते, और दबाव व तनाव में पस्त हो सकते हैं।

केतु हमें मानसिक क्षमताओं से भी समृद्ध बनाता है। यह अंतर्ज्ञान की एक मजबूत भावना का भी प्रतिपादन करता है। यह किसी व्यक्ति की लंबी उम्र को भी प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा, कुछ स्थितियों में, केतु की उपस्थिति व्यक्ति के जीवन में वैवाहिक समस्याएं पैदा कर सकती है। साथ ही, लग्न भाव में केतु वाले जातकों को भारत के प्राचीन ग्रंथों के प्रति कृतघ्न, कपटी तथा आध्यात्मिक में अविश्वास व्यक्त करते भी देखा जा सकता है।

इसके अलावा पहले भाव में केतु वाले जातक अच्छे-बुरे में अंतर नहीं कर पाते। इसलिए वे एक निश्चित और उचित निर्णय लेने में असमर्थ होते हैं, जो उनके जीवन और कामकाज को प्रभावित कर सकते हैं। एक संभावना यह भी है कि यदि वे अपने दुर्व्यसनों पर विजय प्राप्त नहीं करते तो वे अनैतिकता की ओर भी बढ़ सकते हैं। आप अपनी जन्म कुंडली की सहायता से इन सभी समस्याओं का समाधान पा सकते हैं।


निष्कर्ष

केतु, राहु की तार्किक व्याख्या है। यह राहु द्वारा किए गए नुकसान भरपाई कर सकता है। यदि राहु आपको बुराई की ओर ले जाता है, तो केतु आपको यह महसूस करने की क्षमता देता है, कि आप गलत जगह पर हैं। लेकिन यह बहुत आसानी से नहीं होता। केतु कुछ घटनाओं को कार्यान्वित करेगा, जो आपको बुरी तरह परेशान कर सकती हैं। हालांकि, जल्द ही आपको यह महसूस हो जायेगा कि आपको बदलने की आवश्यकता है। अच्छा होने पर ही आप खुश रहेंगे।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

12 Feb 2020


View All blogs

More Articles