कुंडली के प्रथम या लग्न भाव में शनि की महत्ता


Share on :


वैदिक ज्योतिष में शनि ग्रह को कठिन कार्य देने वाला भी कहा जाता है। शनि, लाभ और दंड के सिद्धांत पर कार्य करते हैं। अर्थात यदि जातक अच्छे कर्म करता है, तो शनि उसे उदारता के साथ से पुरस्कृत करते हैं। दूसरी ओर, यदि जातक अधर्म कर्म या कुकर्म में लिप्त होता है, तो शनि उसे उचित दंड भी देते हैं। इसलिए शनि को कर्म फल दाता शनि भी कहते हैं। शनि एक न्याय परायण ग्रह है, जिन्हें न्याय पालक ग्रह के रूप में भी जाना जाता है। ज्योतिषीय ग्रह प्रणाली में यह सबसे अधिक आशंका वाला ग्रह है। जिनकी कुंडली के पहले भाव में शनि होते हैं, उन सभी जातकों के शनि के नियमों के तहत अधिक आने की संभावना होती है। अगर आप कड़ी मेहनत और ईमानदारी से कर्म करते से हैं, तो आपको इससे डरने की आवश्यकता नहीं। इसलिए वास्तव में, शनि सही रास्ते पर चलने और गलत चीजों से दूर रहने का भय पैदा करता है। यह एक विशाल बल है, जो धार्मिकता को बढ़ावा देता है।

प्रथम भाव में शनि के कारण प्रभावित क्षेत्र

रिश्ते व्यवसाय
सामाजिक छवि
कैरियर / व्यवसाय
काम और लोगों के प्रति आपका रवैया

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

शनि हमें कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करते हैं। शनि ग्रह दृढ़ता के साथ अनुशासन में विश्वास करता है, और अपने दृष्टिकोण में बहुत सख्त होता है। लेकिन यह हमें नीचे गिराने के लिए नहीं है। दरअसल, ग्रह यही चाहता है कि हम अच्छे इंसान बनें और अच्छा करें। ये सिर्फ बाहर से कठोर होते हैं। ये हमारे शिक्षक या शायद हमारे पिता जैसा हैं।

प्रथम भाव में शनि की स्थिति का सबसे प्रमुख प्रभाव सही और गलत के फ़ैसलों पर पड़ता है। आप जीवन में स्थितियों और घटनाक्रमों को इतनी स्पष्टता और तेजी से देख सकते हैं, जितना कि कोई और नहीं देख सकता। आप सोचने और कार्य करने में बहुत तेज हो सकते हैं। लेकिन, क्या वर्ष 2020 में आपके कर्म आपको सफलता दिलाएंगे? जानने के लिए प्राप्त करें अपना व्यक्तिगत विस्तृत वार्षिक राशिफल 2020!

इसके अलावा, यदि शनि आपकी कुंडली के पहले भाव में है, तो आपको उन कारणों के बारे में पता होना चाहिए जो आपको तनाव देती हैं, और उनसे निपटने के लिए रचनात्मक तरीके तलाशने चाहिए। शनि के प्रति सही दृष्टिकोण हमारे जीवन में बेहतर बदलाव ला सकता है। शनि के प्रभाव को कम करने के लिए जाने कुछ उपाय!

इसके अलावा, आप अपने लाभ के लिए शनि के पितृ रूप का आसानी से उपयोग कर सकते हैं। यदि आप शनि के लक्षणों को ध्यान में रखते हैं, तो आप बहुत अच्छे कर्मचारी बन सकते हैं। आप अपनी प्रवृत्ति का उपयोग कर सकते हैं और इसे “कुछ भी करने से पहले दो बार सोचो” के साथ एकीकृत कर सकते हैं। ऐसा करने से, आपकी दक्षता और प्रभावशीलता काफी हद तक बढ़ने के लिए बाध्य होती है। इसलिए, शनि की विशेषताएँ हमारे लिए अनुसरण करने के का एक उदाहरण हैं। कुंडली के पहले भाव में ग्रह न केवल हमारे जीवन का फैसला करता है, बल्कि हमें सफलता और गौरव प्राप्त करने के तरीके भी बताता है।

नकारात्मक लक्षण/प्रभाव

पहले भाव में शनि वाले जातकों को अपनी स्वतंत्रता अत्यधिक पोषित कर के रखते हैं। हालांकि, वे अपनी मजबूत भावना को बनाए रखने में कठिनाइयों का सामना करते हैं। संभावना है कि आप कुछ स्थितियों में भ्रमित महसूस कर सकते हैं। आपका मन शंकाओं से भरा रह सकता है और वास्तव में मुश्किलें हो सकती हैं। यदि आप अपने जीवन या लक्ष्यों के बारे में स्पष्ट नहीं हैं, तो यह एक चिंताजनक स्थिति हो सकती है। बेहतर होगा कि आप उन लोगों से सलाह लें जो आपके करीब हैं। वैदिक ज्योतिष में पहले भाव में शनि के अनुसार आपके क़रीबी लोगों जो सहायता प्रदान करेंगे, वह आपकी असुरक्षाओं को औचित्य प्रदान कर सकती हैं, जो आपको कार्रवाई का सबसे अच्छा रास्ता प्रदान कर सकती हैं। जीवन में और अधिक सफलता व स्पष्टता पाने के लिए अपनी जन्मपत्री प्राप्त करें अभी!

कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य होने के कारण एक संभावना और हो सकती है कि आप अत्यधिक महत्वाकांक्षी होने के कारण पीड़ित हो सकते हैं। लोग आपको स्वार्थी समझ सकते हैं, जो आपकी संभावनाओं को बाधित कर सकता है। जिससे भी आपको पीड़ा हो सकती है। फलस्वरूप आप बहुत अकेले और उदास महसूस कर सकते हैं।

निष्कर्ष

शनि अच्छे और ईमानदार लोगों की मदद करते हैं। साथ ही यह अपने व्यवहार में बहुत सख्त होते हैं। ये हर किसी के लिए उचित नहीं हो सकते हैं। क्योंकि बहुत से ऐसे भी लोग हैं, जो आराम और सुख चाहते हैं। हालांकि, शनि सही तरीके और विधि के प्रवर्तक के रूप में रहते हैं। ये हमारा व्यक्तिगत निर्णय होता है कि हम कहाँ तक इनका पालन कर सकते हैं।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

10 Feb 2020


View All blogs

More Articles