क्या बंद हो जायेगी हिंदुस्तान की पहली और सबसे बड़ी मोबाइल नेटवर्क कंपनी बीएसएनएल?


Share on :


बीएसएनएल यानि भारत संचार निगम लिमिटेड। वो कम्पनी जिसने हिंदुस्तान को सबसे पहले मोबाइल फ़ोन सेवाओं के लिए नेटवर्क सुविधा मुहैया करवाई। बी एस एन एल मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों में सबसे पहली कंपनी रही जिसने इनकमिंग कॉल को पूर्णतया फ्री किया। और दूरसंचार के क्षेत्र में भारत सरकार का लोगो में विश्वास बढ़ाया। लेकिन समय के साथ बदलती टेक्नोलॉजी और बढ़ती प्रतिस्पर्धा में बीएसएनएल की चमक फीकी पड़ती गयी, और आज कम्पनी के हालत बहुत नाज़ुक दिखाई दे रहे हैं। परिस्थिति ऐसी हो चुकी है की कम्पनी अपने कर्मचारियों को समय पर वेतन भी नहीं दे पा रही है। ऐसे में कम्पनी ने अपने कर्मचारियों से स्वैच्छिक सेवानिवृति की मांग की है। ताकि कंपनी का आर्थिक भार काम हो जाये। क्योंकि जिस प्रकार से वोडफोन और आइडिया का हाल हुआ है, ऐसे में सवाल उठ रहे हैं, कि क्या भारत की ये सबसे बड़ी मोबाइल नेटवर्क कंपनी बीएसएनएल बंद होने के कगार पर है? इसी मामले में गणेशास्पीक्स डॉट कॉम के अनुभवी ज्योतिषी विशेषज्ञों ने बीएसएनएल की कुंडली और ग्रहों की स्थिति के अनुसार यह विश्लेषण करने की कोशिश की है कि बीएसएनएल के लिए आने वाला समय कैसा रहता है। तो आइये जानते है बीएसएनएल के भविष्य के बारे में।

(कृपया ध्यान दें: सटीक स्थापना समय की अनुपलब्धता के कारण हम भविष्यवाणी के लिए सूर्य कुंडली का उपयोग कर रहे हैं।)

बीएसएनएल की कुंडली

आधिकारिक शुरुआत – 1 अक्टूबर 2000
स्थान – दिल्ली
समय – अज्ञात


क्या बीएसएनएल के सितारे गर्दिश में चल रहे हैं?

यदि इसका एक शब्द में उत्तर दें तो “हाँ” होगा! ग्रहों की चाल दर्शा रही है कि बीएसएनएल की सफलता की राह में थोड़ी कठिनाइयाँ तो हैं। क्योंकि शनि और शनि और केतु का अशुभ ग्रह गोचर चौथे भाव में हो रहा है, और 10 वें घर पर दृष्टि डाल रहा है। ग्रहों का यह संयोग बीएसएनएल को सुचारु रूप से चलाने में परेशानी खड़ी कर रहा है। शनि भी छठे घर पर दृष्टि डाल रहा ही जो की प्रतिस्पर्धा का भाव है। ऐसे में बीएसएनएल को अपनी प्रतियोगी टेलीकॉम कंपनियों  के साथ  निरंतर संघर्ष करना पड़ रहा है। इसी के साथ शनि सूर्य को भी प्रभावित कर रहा है। जिससे कम्पनी को सरकारी अधिकारियों का वांछित समर्थन नहीं मिल पा रहा है। यह स्थिति बीएसएनएल के भविष्य की प्रगति के लिए प्रतिकूल है। लेकिन अच्छी बात ये कि जून 2020 के बाद बृहस्पति का पारगमन इस पूरी स्थिति में कुछ राहत ला सकता है जो बीएसएनएल को मौजूदा परिशतितियों से उबरने में मदद करेगा। हालांकि, शनि का पारगमन यहाँ कुछ धैर्य की परीक्षा ज़रूर लेगा। कुल मिलाकर जून 2020 तक की अवधि बीएसएनएल के लिए चुनौती पूर्ण रहेगी और अभी भी इसे किसी ठोस समाधान के लिए इंतजार करना पड़ेगा।


ये बुरा वक़्त कब तक रहेगा?

जैसा कि ऊपर बताया गया है, जुलाई 2020 के बाद का समय बीएसएनएल के लिए कुछ संतोषजनक समाधान ला सकता है। जो इसे वर्तमान में चल रहे कठिन दौर से बाहर आने में मदद करेगा। लेकिन अभी के लिए तो शनि के गोचर के कारण आर्थिक रूप से कुछ चुनौती पूर्ण स्थितियाँ बनी रहेंगी। यद्यपि सरकारी अधिकारी विभिन्न तरीकों से सहायता प्रदान कर बीएसएनएल को इस कठिन समय बाहर निकलने में मदद करेंगे। इसलिए, आगामी महीनों में कुछ उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं।

क्या बीएसएनएल बंद हो जाएगी?

ग्रहों के संकेतानुसार बीएसएनएल के लिए आने वाला समय काफी कठिन रहने वाला है लेकिन कंपनी के बंद होने की संभावना काफी कम है। हो सकता है सरकार बीएसएनएल  को बचाने के लिए कुछ वैकल्पिक तकनीकी तरीकों को अपनाने में भी सक्षम हो सकती है।


तो क्या बीएसएनएल का निजीकरण कर दिया जायेगा?

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है कि बीएसएनएल के बंद होने की संभावना कम है। लेकिन इसके साथ निजीकरण की संभावना भी पर्याप्त मजबूत नही दिखाई दे रही है। जैसे-जैसे बृहस्पति का गोचर सरकारी अधिकारियों से समर्थन प्राप्त करने में बीएसएनएल की मदद करेगा, कंपनी की स्थिति बेहतर होती जाएगी। लेकिन हाँ आने वाले भविष्य में बीएसएनएल को निजी कंपनियों का आंशिक सहयोग मिलने की मजबूत संभावना है, जो सरकार के साथ जुड़े रहेंगे।

आने वाला समय बीएसएनएल के लिए कैसा रहेगा?

वर्तमान के ग्रहों की प्रतिकूल स्थिति बीएसएनएल की प्रगति को प्रभावित कर रही है। लेकिन आने वाले समय में विशेष रूप से जून 2020 के बाद राहत के कुछ आसार नज़र आ रहे हैं। हालांकि 23 जनवरी, 2020 को शनि का मकर राशि में परागमन कुछ वित्तीय दबाव ला सकता है जो बीएसएनएल के लिए आर्थिक सहयोग की मांग करेगा। इसलिए अपनी स्थिति को फिर से मजबूत करने की दिशा में बीएसएनएल द्वारा कुछ सख्त कदम उठाए जा सकते हैं। इसलिए गणेशजी कहते हैं कि वित्त प्रबंधन के लिए बीएसएनएल के कर्मचारियों की छांटनी करने की संभावना बानी रहेगी।

ज्योतिषीय निष्कर्ष

संक्षेप में कहें तो चूँकि बीएसएनएल भारत की प्रसिद्ध टेलीकॉम कंपनी है। इसलिए सरकारी प्राधिकरण भी बीएसएनएल को बचाने के लिए अपना भरपूर समर्थन देने की कोशिश कर रहे हैं। आने वाला समय बीएसएनएल के लिए सहायक होगा और कंपनी को राहत मिलने की प्रबल संभावना है। लेकिन दीर्घावधि तक बीएसएनएल को सफलतापूर्वक चलाने के लिए सरकार को कोई बीच का रास्ता ढूंढना पड़ेगा।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

19 Dec 2019


View All blogs

More Articles