2019 हरियाली अमावस्या का महत्व, मुहूर्त और लाभ


Share on :

हरियाली अमावस्या 2019 

पौधरोपण और पितरों के श्राद्ध के लिए खास है सावन माह की हरियाली अमावस्या
श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को हरियाली अमावस्या के रुप में भी जाना जाता है। देश के कई हिस्सों में इस दिन को पर्यावरण संरक्षण दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। चूंकि श्रावण मास भगवान शंकर को प्रिय है, ऐसे में इस दिन खास तौर पर भोलेनाथ की पूजा अर्चना की जाती है। यह दिन कृषि कार्य करने वालों के लिए भी महत्वपूर्ण होता है और खास तौर पर इस दिन पौधरोपण भी किया जाता है। इस दौरान वे बारिश का पूर्वानुमान भी लगाते हैं, ताकि कृषि कार्य को शुरू किया जा सके। 

इस दिन पौधा लगाना होता है शुभ
हरियाली अमावस्या के दिन पौधरोपण करना शुभ माना जाता है। वैसे भी पेड़-पौधे हमारी आस्था के साथ ही जीवन शक्ति से जुड़े हुए हैं। ऐसे में अलग-अलग पेड़-पौधों में विभिन्न देवताओं का भी वास होता है। जैसे पीपल वृक्ष में त्रिदेव के साथ ही अन्य देवताओं का वास माना गया है। इसी तरह केला और आंवला वृक्ष में भगवान विष्णु का वास माना जाता है। ऐसे में खास पौधे लगाने और उनकी पूजा करने से शुभ फल के साथ ही ईश्वर की कृपा भी प्राप्त होती है। 

मुहूर्त का भी रखें ध्यान
पौधरोपण अगर शुभ मुहूर्त में किए जाएं तो वे शुभ फलदायी होते हैं। ज्योतिष के मुताबिक रोहिणी, मृगशिरा, रेवती, चित्रा, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तराषाढा, उत्तरा भाद्रपदा, अनुराधा,   पुष्य, श्रवण, हस्त, अश्विनी, मूल और विशाखा नक्षत्र में पौधरोपण शुभ होता है।

125 साल बाद बन रहा पंच महायोग
इस बार के व्रत की खास बात यह है कि, इस बार 125 साल बाद गुरु पुष्य योग में हरियाली अमावस्या मनाई जाएगी। इतना ही नहीं, इस दिन पंच महायोग शुभ योग, सर्वार्थ सिद्धि, सिद्धि योग, अमृत सिद्धि योग और गुरु पुष्यामृत योग का भी संयोग बन रहा है। ऐसे में इस दिन पूजन का काफी महत्व है। 

पौधे और उन्हें लगाने से मिलने वाले लाभ

लक्ष्मी : तुलसी, आंवला, केला, बेल का वृक्ष।
आरोग्य : ब्राह्मी, पलाश, अर्जुन, आँवला, सूरजमुखी, तुलसी।
ऐश्वर्य और सौभाग्य : अशोक, अर्जुन, नारियल और वट वृक्ष।
संतान प्राप्ति : पीपल, नीम, बेल, नागकेशर, गु़ड़हल और अश्वगंधा।
मेधा : आँक़ड़ा, शंखपुष्पी, पलाश, ब्राह्मी और तुलसी।
सुख प्राप्ति : नीम, कदम्ब और घने छायादार वृक्ष।
आनन्द : हरसिंगार (पारिजात) रातरानी, मोगरा, गुलाब।

घर के सामने शुभ और अशुभकारी वृक्ष

शुभ फलदायी वृक्ष – नीम, अशोक, पुन्नाग, शिरीष, बेल, आंक़डा और तुलसी का पौधा आरोग्य वर्धक होता है। 
अशुभ प्रभावकारी वृक्ष (घर के सामने नहीं होने चाहिए) – पाकड़, गूलर, बहे़डा, पीपल, बेर, निर्गुंडी, इमली, कदम्ब और खजूर के अलावा कांटे वाले, दूध वाले और फल वाले वृक्ष।
इन पौधों को घर में लगाने से करें परहेज – केला, अनार, पीपल और नींबू। 

पितरों के श्राद्ध के लिए भी है हरियाली अमावस्या का महत्व 
अमावस्या के दिन पितरों का श्राद्ध भी किया जाता है। ऐसे में श्रावण मास की अमावस्या का खास महत्व है। शास्त्रों के अनुसार इस तिथि के स्वामी पितृदेव हैं। ऐसे में पितरों की तृप्ति के लिए भी इसका खास महत्व है। 

हरियाली अमावस्या 2019 

1 अगस्त, गुरुवार 
पूजा का समय
अमावस्या तिथि प्रारंभ – 31 जुलाई 2019 को 11:57 बजे
अमावस्या तिथि समाप्त – 1 अगस्त 2019 को 08:41 बजे

27 Jul 2019


View All blogs

More Articles