डिम्पल यादव का कुंडली विश्लेषण: लोकसभा चुनाव 2019 में डिम्पल का भविष्य


Share on :

लोकसभा चुनाव 2019 में फिर एक बार सभी राजनेता अपनी जानी-पहचानी सीट को छोड़कर दूसरी जगह से चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं। अखिलेश यादव ने कन्नौज सीट के लिए अपनी पत्नी डिंपल यादव पर फिर भरोसा जताया है। हालांकि अखिलेश के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने कन्नौज सीट पर अपने खास सुनील राठौर को प्रत्याशी बनाकर डिंपल का गणित बिगाड़ने की पूरी कोशिश की है। देखते हैं लोकसभा चुनाव 2019 के लिए क्या कहती है डिंपल की कुंडली

 

डिंपल यादव की कुंडली

जन्म दिन- 15/01/1978
जन्म समय- ज्ञात नहीं

डिंपल यादव की कुंडली की व्याख्या

– डिंपल यादव की सूर्य कुंडली के अनुसार पब्लिक लाइफ यानी कि सातवें भाव का स्वामी चंद्र कुमार अवस्था में है।
– षष्ठेश और भाग्येश बुध और 12वें और तीसरे भाव के मालिक गुरु परिवर्तन राजयोग बना रहे हैं।
– सूर्य और मंगल की एक-दूसरे पर पूरी दृष्टि है।
– शुक्र-बुध लक्ष्मीनारायण योग बनाते हैं।
–  लग्न में बैठा सूर्य और अष्टम स्थान में बैठा शनि भी परिवर्तन राजयोग बना रहे है। जो इनके लिए लाभदायक है।

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए डिंपल यादव की कुंडली का विश्लेषण

डिंपल यादव की की कुंडली में बुध और गुरु का परिवर्तन राजयोग इनके पराक्रम को बढ़ाता है और इन्हें राजनीति में ऊंचा पद दिलाता है। इसके अलावा लग्नेश और धनेश शनि का अष्मेश सूर्य के साथ परिवर्तन राजयोग राजनीति के लिए परिवार का पूरा सपोर्ट देता है। बुध- शुक्र की युति इन्हें इमोशनल बनाती है और इन्हें बोलने की कला में भी माहिर बनाती है। ये राजनेताओं का गुण होता है। 30 मार्च से 23 अप्रेल तक जन्म के बुध और शुक्र से गुरु का गोचर होगा, जो आने वाले चुनाव में इन्हें सफलता दिलाएगा। हालांकि शनि-केतु भी अभी शुक्र और बुध से गोचर कर रहे हैं, जो इन्हें चुनाव में अपनों से ही परेशानी देगा। जाहिर है अखिलेश के चाचा ने भी कन्नौज से अपनी पार्टी का सदस्य चुनाव में उतारा है। 23 अप्रेल के बाद गुरु का वृश्चिक में वक्री होना भी डिंपल के फायदेमंद होगा। इस समय बृहस्पति की दृष्टि पराक्रम भाव और सप्तम भाव पर होगी, जो इनको जीत दिलाने में महत्वपूर्ण होगी।


आचार्य परीक्षित के इनपुट के साथ
गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/ हिंदी


01 Apr 2019


View All blogs

More Articles