बाबूलाल मरांडी के 14 साल बाद पुनः भाजपा में शामिल होने पर क्या कहता है ज्योतिष


Share on :


राजनीतिक पार्टी झारखण्ड विकास मोर्चा के अध्यक्ष, पूर्व केंद्रीय मंत्री और झारखंड राज्य के सर्वप्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी एक बार फिर भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं। 17 फरवरी 2020 को उन्होंने ये घोषणा की। मरांडी की भाजपा में इस वापसी के कारण झारखंड की राजनीति एक बार फिर चर्चा में है। इन दिनों बाबूलाल मरांडी के सितारे बुलंदी पर हैं, जबकि दूसरी ओर भाजपा को लोकसभा और मात्र एक राज्य हरियाणा के अलावा 2019-2020 में हुए सभी लोकसभा चुनावों में हार का सामना करना पड़ा है। जिनमें महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव, झारखण्ड विधानसभा चुनाव, तथा दिल्ली विधानसभा चुनाव इसके ताज़ा उदाहरण हैं।

लेकिन क्या बाबूलाल मरांडी के भाजपा में शामिल होने से भाजपा के रकनीतिक वर्चस्व पर कोई असर पड़ेगा? इस गठबंधन से किसे सबसे अधिक फायदा होगा? तथा केंद्र और झारखण्ड की राजनीति में क्या उठा-पटक देखने को मिल सकती है। जबकि फिलहाल तो निकट समय में कोई भी चुनावी प्रक्रिया नहीं है। इन सब सवालों के जवाब खोजने की कोशिश की है गणेशास्पीक्स के अनुभवी ज्योतिषी विशेषज्ञों ने। तो आईये जानते हैं, बाबूलाल मरांडी के भाजपा में शामिल होने पर क्या कह रहे हैं सितारे?

क्या कहती है, ग्रह गोचर स्थिती बाबूलाल मरांडी के बारे में?

बाबूलाल मरांडी की कुंडली में, आत्मकारक शनि, मातृकारक मंगल के साथ मजबूत स्थिति में हैं, जो एक शक्तिशाली जैमिनी राज योग बना रहे हैं। यह योग उन्हें एक शक्तिशाली और प्रभावशाली नेता बनाने की क्षमता देता है। वृश्चिक राशि में शनि और मंगल का संयोग उन्हें एक बहुत ही सक्षम नेता, एक अच्छा रणनीति कार, और एक कुशल प्रशासक भी बनाता है। साथ ही, यह उन्हें तार्किक और विश्लेषणात्मक दृष्टिकोण भी प्रदान करता है।

अमात्यकारक सूर्य, बुध के साथ धनु राशि में विद्यमान हैं। यह इंगित करता है कि उनके पास एक अच्छी मात्रा में मानसिक ऊर्जा है, और वे क्या चाहते हैं, और लक्ष्यों को कैसे प्राप्त कर सकते हैं, इस बारे में पूरी स्पष्टता के साथ सोचने की क्षमता रखते हैं। इसके अलावा, यह उसके विश्वास के बारे में आत्मविश्वास और दृढ़ता को प्रेरित करता है। अग्नि तत्व की राशि धनु में स्थित सूर्य और बुध की ऊर्जा उन्हें एक एक स्वतंत्र विचारक बनाने की संभावना दर्शाती है। इसलिए उनकी राय आमतौर पर बहुत मजबूत होती है। वे नए विचारों और सुधारों के प्रति खुले प्रतीत होते हैं, जो उन्हें रणनीतिक योजनाओं को लागू करने में सहायक हो सकते हैं। हालाँकि वे इस संयोजन के नकारात्मक प्रभाव के कारण अपनी राय और विचारों पर घमंड कर सकते हैं। यदि उनके विचारों को अहमियत नहीं दी जाती या उन्हें दरकिनार कर दिया जाता है तो सहकर्मियों के साथ उनके अहम् को ठेस पहुँच सकती है। यदि उनके विचार और सुझाव पार्टी के विकास में एक प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं, तो उन्हें अपने विचार और सुझाव रखने चाहिए। इसलिए यह महत्वपूर्ण होगा कि भाजपा उन्हें उनके अनुभव और क्षमता के अनुसार महत्व और जिम्मेदारियां सौपें।

बाबूलाल मरांडी की कुंडली में शुक्र पांचवें भाव में स्थित है। यह उन्हें एक एक करिश्माई नेता बनाता हैं, तथा सार्वजनिक जीवन में उन्हें सफलता, प्रसिद्धि और उच्च पद प्रदान करता है। चूँकि कुंडली में शुक्र वक्री है, इसलिए उनका राजनीतिक उतर चढ़ावों का सामना कर रहा है। जबकि बृहस्पति-राहु का संयोजन कुछ अप्रत्याशित समस्याओं या बाधाओं का कारण बन सकता है। क्या आप भी अपने कार्यालय के में अप्रत्याशित समस्याओं या बाधाओं का सामना कर रहे हैं? तो यह आपकी कुंडली में बृहस्पति-राहु संयोजन के कारण हो सकता है। इस स्थिति के बारे में अधिक जानने के लिए प्राप्त करें अपना जन्म कुंडली विश्लेषण नि:शुल्क अभी!


भाजपा में शामिल होने के बाद कैसा रहेगा बाबूलाल का राजनीतिक करियर

वर्तमान में गोचर बृहस्पति का सूर्य और बुध पर उदार प्रभाव बाबूलाल के लिए अनुकूल रहने की संभावना है। 30 मार्च से मकर राशि में शुरू होने वाला बृहस्पति का पारगमन भी उनके लिए लाभदायक हो सकता है। इसलिए वे पूरी तैयारी और बड़े आत्मविश्वास अपनी मूल पार्टी भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं। चूँकि जन्म के सूर्य भी शनि गोचर के प्रभाव से दूर हैं। इसलिए स्थानीय सरकार के उनकी प्रमुखता और महत्व महसूस किया जा सकता है। शनि का गोचर आपको भी महत्व और प्रमुखता दिला सकता है, इसलिए आज ही अपनी व्यक्तिगत शनि गोचर रिपोर्ट प्राप्त करें और अपने प्रयासों और सफलता के समय को निश्चित करें।


बाबूलाल मरांडी के भाजपा में शामिल होने से आदिवासी क्षेत्रों में भाजपा की पकड़ मजबूत होगी। जिससे झारखंड ही नहीं अपितु अन्य आदिवासी बाहुल्य राज्यों में भी भाजपा के वोट बैंक में वृद्धि होगी। जिससे प्रति में उनकी छवि को व्यापक बनाने में मदद मिलेगी। भाजपा में उनकी वापसी से उन्हें राज्य की राजनीति में एक बड़ी भूमिका मिलने की संभावना है। बाबूलाल मरांडी सक्रीय राजनीति का एक ऐसा चेहरा होने जो क्षेत्र में आदिवासियों के उत्थान की दिशा में उत्तरोत्तर काम करेंगे। जिसके परिणाम स्वरूप बीजेपी के बहुमत के बढ़ोतरी होगी। जिससे भाजपा को वोट बढ़ाने प्रतिशत में मदद मिलेगी। क्योंकि ये भाजपा का, लोगों में खोया हुआ विश्वास पुनः पाने में लाभदायक होगा। हालांकि, राहु और केतु के गोचर का प्रभाव कुछ बाधाओं और कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। उन्हें भाजपा में कड़े विरोध का सामना करना पड़ सकता है। भाजपा के कुछ सदस्यों के साथ उनके विचार मेल नहीं खाने के कारण अपने अहम् को लेकर बाबूलाल मरांडी की कुछ लोगों के साथ झड़प भी हो सकती है। लेकिन फिर भी इनकी कुंडली में ग्रहों की स्थिति मजबूत है। ग्रहों की स्थिति के कारण ही उनकी एक विजेता के रूप वापसी की संभावना बनी है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिष विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

25 Feb 2020


View All blogs

More Articles