शनि की दोहरी मार और केतु का प्रहार ले डूबा अनिल अंबानी का कारोबार, जानिए पूरा विश्लेषण


Share on :


ब्रिटेन की एक अदालत में सोमवार को दिग्गज भारतीय उद्योगपति अनिल अंबानी के वकीलों ने बताया कि फिलहाल अनिल अंबानी चायनीच बैंकों का कर्ज चुका पाने में असमर्थ हैं, और उनके परिवार के लोग उनकी मदद नहीं कर सकते। वहीं चयनीज बैंकों के वकीलों ने कहा कि पहले भी अनिल अंबानी का परिवार कई मर्तबा उनकी मदद कर चुका है। इसके जवाब में अनिल के वकीलों ने कहा कि, हमारे क्लाइंट के पास अपनी मां, पत्नी और बेटों की संपत्ति और शेयरों का एक्सेस नहीं है। इसके जवाब में बैंकों के वकीलों ने कहा कि क्या ऐसा माना जा सकता है, कि अनिल का परिवार खराब समय में उनकी मदद नहीं करेगा? उनके भाई मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर आदमी हैं।
 
एक समय दुनिया के छठे सबसे अमीर शख्स रहे अनिल अंबानी के खिलाफ जारी एक मुकदमे के दौरान विपक्षी वकीलों के खेमे ने अपनी दलीलों में देश के सबसे अमीर और प्रतिष्ठित परिवारों में से एक अंबानी परिवार को भी घसीट लिया। साल 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अनिल अंबानी के निवेश की कुल वेल्यू 700 करोड़ डाॅलर मतलब लगभग पचास हजार करोड़ रूपए थी। लेकिन आज उनके निवेश की कीमत शून्य है, ऐसा हलफ़नामा उनके वकीलों ने कोर्ट में पेश किया। साल 2012 तक देश के सबसे अमीर लोगों में शुमार अनिल अंबानी के जीवन में ऐसा क्या हुआ कि, साल 2020 में उनकी पत्नी, बेटे और मां की संपत्ति और शेयरों से अनिल अंबानी के बकाया चुकाने की चर्चा एक विदेशी कोर्ट में हो रही है।


ज्योतिषीय दृष्टिकोण इसकी शुरूआत होती है, 26 अक्टूबर 2017 को। जैसे ही शनि ने वृश्चिक से धनु राशि में प्रवेश किया, वैसे ही अनिल अंबानी के करियर ने नीचे की ओर गोता लगाना शुरू कर दिया। अनिल अंबानी की सूर्य कुंडली का अध्ययन करने पर यह पता चलता है, कि इस दौरान गोचर शनि जन्म के शनि के ऊपर से गुजर रहे थे। दोहरे शनि की स्थिति व्यक्ति के जीवन में दोहरी समस्या उत्पन्न करती है, इसी दौरान गोचर केतु ने भी जन्म के शनि से गोचर किया। दोहरे शनि और केतु की मार ने अनिल अंबानी को आसमान की ऊंचाईयों से ज़मीनी हकीक़त तक पहुंचा दिया।

अनिल अंबानी की कुंडली


जन्म के शनि से, गोचर शनि और केतु के गुजरने से संयुक्त संसाधनों, साझेदारियों, गठबंधन और वित्त से संबंधित विभिन्न क्षेत्रों में नुकसान पहुंचाने का काम किया। जन्म और गोचर ग्रहों की संयुक्त नकारात्मक स्थिति के कारण इस अवधि के दौरान अनिल को उधार लेन देन और बकाया चुकता से संबंधित कार्यों में भी समस्याओं का सामना करना पड़ा होगा। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि ढाई वर्षों की यह अवधि अनिल अंबानी के लिए बेहद मुश्किलों भरी और कठिन रही  होगी।

उम्मीद की किरण

बीते ढाई साल अनिल अंबानी के लिए बेहद दुखदायी और मुश्किलों भरे रहे होगें, लेकिन आने वाला समय और ग्रहों की स्थिति अनिल के लिए कुछ राहत के संकेत देगी नजर आती है। बीते 24 जनवरी को शनि के मकर गोचर के साथ ही अनिल को कुछ राहत मिलती दिखाई देती है। इस दौरान अनिल अपने बकाया कर्ज को चुकता करने के लिए कड़ी मेहनत करने वाले हैं, और उनका पूरा ध्यान कर्ज के जाल से खुद को बाहर निकालने पर होगा। कुंडली में अमृत समान गुरू अनिल अंबानी को बड़ी राहत देने का काम करेंगे, इस दौरान किसी भी तरह के ऋण को चुकाने में वे अनिल की सहायता कर सकते हैं। अनिल अंबानी के लिए साल 2020 कर्ज वापसी के लिहाज से बेहद मददगार साबित हो सकता है, इस दौरान पिछले साल के बकाया चुकता होने के संकेत नजर आते हैं। साल 2020 में भी अप्रैल 2020 से सितंबर 2020 तक की अवधि अनिल अंबानी के लिए बेहद लाभकारी और उम्मीदों भरी हो सकती है।


हालांकि सितंबर के बाद भी अनिल अंबानी को बेहतर होती ग्रह स्थिति का लाभ मिलता नजर आता है। गणेशजी के आशीर्वाद से साल 2020 अनिल अंबानी के लिए बीते दौर से बेहतर स्थितियों का निर्माण करता नजर आता है। इस अवधि के दौरान अनिल को व्यापार वृद्धि के बेहतरीन अवसर मिलने की संभावना है, इसी के साथ आर्थिक स्थिति भी सुधरने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। गुरू के समर्थन से अनिल अंबानी अपनी पद प्रतिष्ठा पुनः प्राप्त कर सकते हैं। इस दौरान अनिल को धैर्य के साथ अपने प्रयासों को सही दिशा में केंद्रित करना होगा और सकारात्मक सोच के साथ पुनः बाजार में उतरना होगा। अनिल अंबानी की सूर्य कुंडली का अध्ययन करने के बाद यह बात कही जा सकती है कि, आने वाला समय अंबानी के लिए बेहतर और उम्मीद की किरण लेकर आने वाला है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

12 Feb 2020


View All blogs

More Articles