कुंभ में शुक्र गोचर 2020 का मेष राशि पर पड़ेगा सकारात्मक प्रभाव, रखें ये सावधानी!


Share on :


शुक्र जिसे भोर का तारा भी कहा जाता है। वैदिक ज्योतिष में शुक्र को काल पुरूष के सौंदर्य का प्रतीक माना गया है। शुक्र एक छोटा ग्रह है और सौरमंडल में सूर्य से बढ़ते क्रम में दूसरे नंबर का ग्रह है। पृथ्वी का पड़ोसी होने के कारण इसे सूर्य अस्त के बात गहरी रात से सूर्य उदय के पहले तक देखा जा सकता है। चंद्र कुंडली में शुक्र को वृषभ और तुला राशि का स्वामी माना गया है। इसी क्रम में शुक्र सातवें भाव का कारक होकर पुरूषों से संबंधित मामलों का कार्यवाहक होता है। सामान्य तौर पर शुक्र को एक राशि भ्रमण में लगभग 23 दिनों का समय लगता है, लेकिन यह समयावधि स्थिति के अनुसार कम या ज्यादा हो सकती है। फिलहाल शुक्र 9 जनवरी 2020 से 3 फरवरी 2020 तक कुंभ में भ्रमण करने वाले हैं।

शुक्र का मकर से कुंभ में होने वाला यह राशि परिवर्तन संपूर्ण राशि चक्र को प्रभावित करने वाला है।  मेष राशि जातकों की बात करें तो उनकी चंद्र कुंडली में शुक्र का यह गोचर दसवें से ग्यारहवें भाव में होने वाला है। ग़ौरतलब है कि शुक्र अपने स्थान से सातवें स्थान पर दृष्टि डालता है, इस हिसाब से शुक्र का कुंभ गोचर 2020 मेष राशि जातकों के जीवन के कई प्रमुख क्षेत्रों को प्रभावित करने वाला है। कुंडली का ग्यारहवा भाव आपके जीवन के प्रत्येक लाभ से जुड़ा है, वहीं शुक्र को नैसर्गिक  भोग विलास और दांपत्य जीवन का प्रतीक माना गया है। कुंभ में शुक्र गोचर 2020 का मेष राशि जातकों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा। इस दौरान मेष राशि जातक करियर, आर्थिक, व्यापार-व्यवसाय, शिक्षा, स्वास्थ्य और प्रेम व वैवाहिक जीवन में अधिक बेहतर प्रदर्शन कर पाएंगे। हालांकि इस दौरान अनुकूल परिस्थितियों का लाभ उठाने के लिए आपको कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। आइए शुक्र गोचर 2020 के मेष राशि जातकों के जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों को विस्तार से जानने की कोशिश करते है।


शुक्र का मकर गोचर, करियर पर पड़ने वाला प्रभाव

करियर के दृष्टिकोण से शुक्र का कुंभ में गोचर 2020 मेष राशि जातकों के जीवन पर बेहद सकारात्मक और अनुकूल प्रभाव डालने वाला है। इस दौरान आपकी नौकरी या पेशेवर जीवन दोनों में विकास और वृद्धि की संभावना दिखाई देती है। इस समयावधि में आप अप्रत्याशित लाभ, पदोन्नति, वेतन वृद्धि या कार्य क्षेत्र से जुड़े किसी विशेष लाभ के लाभार्थी बन सकते है। चंद्र राशि मेष कुंडली के अनुसार शुक्र के लाभ स्थान पर गोचर के मेष राशि जातकों के करियर पर अच्छे परिणाम  देखने को मिलेंगे। मौजूदा गोचर आपको अपने करियर की दिशा में सही कदम उठाने और मनचाही नौकरी प्राप्त करने में भी सहायता करने वाले है। इस दौरान करियर को लेकर आपकी तरफ से की जा रही मेहनत और समर्पण शुक्र गोचर 2020 के सकारात्मक प्रभावों को दोगुना करने का काम करेगा। हालांकि इस समयावधि के दौरान कोई भी फैसला जल्दबाजी में करने बचें, सोच विचार और सलाह-मशवरा के बाद ही कोई निर्णय करें। इस दौरान धैर्य और एकाग्रता के साथ अपने करियर के लिए निर्धारित लक्ष्यों की ओर बढ़ने से आप अधिक सहजता से उन्हे प्राप्त कर पाएंगे।

शुक्र का कुंभ गोचर, व्यापार-व्यवसाय पर प्रभाव

साल 2020 के शुरूआत में होने वाला यह गोचर मेष राशिधारक व्यापारी-व्यवसायियों के लिए लाभदायक सिद्ध होने वाला है। शुक्र का कुंभ गोचर 2020 व्यापार के लिहाज से बेहद सकारात्मक परिणाम देने वाला है। शुक्र का कुंभ में गोचर 2020 मेष चंद्र कुंडली के ग्यारहवें भाव में गोचर कर रहा है, जो दिन-प्रतिदिन के लाभ को दर्शाता है। इससे मेष राशि जातकों के व्यापार-व्यवसाय में दिन-प्रतिदिन के लाभ में बढ़ोत्तरी होगी, और दीर्घ समयावधि में ये छोटे-छोटे लाभ बड़े आर्थिक लाभ के रूप में नजर आएंगे। इस दारौन व्यापार विस्तार के लिए की गई आपकी यात्राओं के सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। इस दौरान व्यापारिक संबंधों में भी बढ़ोत्तरी और विस्तार देखने को मिलेगा। इन यात्राओं और संबंधों का व्यापार पर दीर्घ समयावधि में बड़ा सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा।

शुक्र का कुंभ गोचर, आर्थिक स्थित पर प्रभाव

शुक्र गोचर 2020 के करियर और व्यापार-व्यवसाय पर पड़ने वाले सकारात्मक प्रभावों का असर आपको अपनी आर्थिक स्थिति पर देखने को मिलेगा। इस दौरान अचानक किसी बड़े लाभ की अपेक्षा आपको छोटे-छोटे लाभ से अधिक आर्थिक बल मिलेगा। इस दौरान आप स्वयं को आर्थिक तौर पर अधिक स्वतंत्र और स्थिर पाएंगे। शुक्र का कुंभ गोचर 2020 की सकारात्मक स्थिति का आपके पूर्व में किए गए निवेश पर भी अच्छा प्रभाव देखने को मिलेगा। इस दौरान आपको अपने पूर्व निवेश से अच्छे लाभ की प्राप्ति हो सकती है। हालांकि इस दौरान आपको पूर्व में किए इन निवेशों से मिलने वाली बड़ी राशि की आवश्यकता नहीं पड़ेगी, इसलिए आप इसे पुनः दीर्घकालिक निवेश में डाल सकते है। इससे आपको भविष्य में आर्थिक स्थिरता और स्वतंत्रता मिलेगी। इस दौरान आप अपने व्यापारिक लाभ में बड़ी वृद्धि देखने वाले है।


शुक्र का कुंभ गोचर, प्रेम व वैवाहिक जीवन पर प्रभाव

शुक्र जिसे पश्चिम में वीनस और सुंदरता की देवी माना जाता है, उसे वैदिक ज्योतिष में काल पुरूष का सौंदर्य और प्रेम व वैवाहिक जीवन के नैसर्गिक सुख के प्रतीक के रूप में जाना जाता है। शुक्र का कुंभ गोचर 2020 मेष राशि जातकों के जीवन को प्रेम और वैवाहिक सुख की अनुभूतियों से भरने वाला है। इस दौरान मेष राशि जातकों की जीवन साथी से संबंधित तलाश खत्म होगी, जिसकी उन्हे लंबे समय से तलाश थी। पहले से प्रेम रिश्तों में बंधे जातक अपने रिश्ते को अधिक मजबूत और खूबसूरत होते देखेंगे। अपने साथी से अपने दिल की बात आसानी से कहेंगे और सकारात्मक परिणाम प्राप्त करेंगे। शादीशुदा जातकों के अपने साथी से संबंध शांति प्रिय और प्रेम पूर्ण बने रहेंगे। इस दौरान आप अपने जीवन साथी के साथ अधिक समय व्यतीत कर पाएंगे, जिससे आपके रिश्ते में मजबूती बढ़ेगी। इस दौरान आप अपने साथी के साथ किसी सुखद यात्रा का भी आनंद लेने वाले है।


शुक्र का कुंभ गोचर, स्वास्थ्य पर प्रभाव

चूंकि वैदिक ज्योतिष में शुक्र को एक विलासी ग्रह माना गया है, इसलिए स्वास्थ्य पर इसके नकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते है। हालांकि शुक्र का कुंभ गोचर 2020 का मेष राशि जातकों पर औसत प्रभाव देखने को मिलेगा। इसके लिहाज से मेष राशि जातकों के स्वास्थ्य पर कुंभ में शुक्र गोचर 2020 का औसत सकारात्मक प्रभाव रहेगा। इस दौरान आपको पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं में स्वतः ही सुधार नजर आने लगेगा। हालांकि इस समयावधि में आपको अपने खाने-पीने की आदतों में सुधार करने की जरूरत महसूस होगी। इस दौरान आपको स्वच्छता का ध्यान रखते हुए पौष्टिक आहार को भोजन में शामिल करना चाहिए।

शुक्र का कुंभ गोचर, शिक्षा पर प्रभाव

शुक्र गोचर 2020 शिक्षा की दृष्टि से भी बेहद अहम होने वाला है। कुंभ राशि में शुक्र गोचर 2020 का चंद्र राशि मेष कुंडली के ग्यारहवें स्थान पर भ्रमण करना, इसे शिक्षा के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण बनाने का कार्य करता है। ग़ौरतलब है कि, शुक्र अपने स्थान से सातवें स्थान पर दृष्टि डालता है। मेष कुंडली की स्थिति में शुक्र का कुंभ गोचर 2020 ग्यारहवें स्थान पर होने वाला है, वहां से सातवाँ स्थान पांचवा भाव होता है। पांचवें भाव का संबंध शिक्षा से होता है, इस लिहाज से शुक्र का मेष राशि जातकों की शिक्षा पर गहरा प्रभाव पड़ने वाला है। चूंकि शुक्र एक शांत ग्रह और मेष कुंडली में वह सूर्य से तीसरे स्थान पर मौजूद है, इसलिए छात्र अपनी शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करने के साथ ही अपने प्रयासों से बेहतर परिणाम प्राप्त कर पाएंगे। इस दौरान भोग-विलासिता की वस्तुओं से दूरी बनाए रखना अपने प्रदर्शन को दोगुना करने जैसा होगा।

निष्कर्ष

भार्गव, पुंडरिक, दैत्यगुरू जैसे नामों से प्रसिद्ध शुक्र को सौर मंडल में मंत्री का दर्जा प्राप्त  है। घर में शुक्र का स्थान शयनकक्ष को माना गया है। शुक्र बुध, शनि एवं राहु के प्रभाव में जातक पर सकारात्मक प्रभाव डालता है वहीं सूर्य एवं चंद्र के साथ मिलकर नकारात्मक प्रभावों का स्रोत बनता है। निष्कर्ष के तौर पर कहा जा सकता है कि, कुंभ में शुक्र गोचर 2020 का चंद्र राशि मेष कुंडली धारकों पर सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा। इस दौरान उन्हे धैर्य और एकाग्रता से स्थिति को बेहतर बनाने का प्रयास करना चाहिए।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

30 Dec 2019


View All blogs

More Articles