गुरू के परिभ्रमण के कारण रियल इस्टेट के क्षेत्र में कुछ समय तक स्थिरता कायम रहेगी


Share on :

गुरू के परिभ्रमण के कारण रियल इस्टेट के क्षेत्र में कुछ समय तक स्थिरता कायम रहेगी

Real Estate Sector
आज़ादी के बाद भारत ने बहुत सारे क्षेत्रों में तेजी से विकास किया है, उन क्षेत्रों में एक है रियल इस्टेट। पिछले डेढ़ दशक के दौरान रियल इस्टेट के क्षेत्र में अप्रत्याशित प्रगति देखने को मिली है। इस प्रगति के कारण देश के छोटे छोटे कस्बे भी रियल इस्टेट कारोबार की लपेट में आये और विकास के नाम पर ऊंची व आलीशान इमारतों, मालों का निर्माण हुआ। मगर पिछले कुछ महीनों से रियल इस्टेट में स्थिरता का दौर चल रहा है, जिस के कारण निवेशकों को अपने फायदे के लिये राह देखनी पड़ रही है। ऐसे में गणेश जी भारत की जन्म कुंडली का अवलोकन करके इस क्षेत्र में आने वाले समय में क्या उतार चढ़ाव आयेगा इस की भविष्यवाणी कर रहे हैं।
भारत की कुंडली
Subrata Roy, GaneshaSpeaks.com

क्या कहते हैं सतारें?
भारत की कुंडली के लग्न में राहु है। ज़मीन व मकान को प्रदर्शित करता ग्रह मंगल धन के घर में स्थित है। कुंडली में बुध, चंद्र, शनि, शुक्र व सूर्य पांचों ग्रह एक साथ तीसरे घर में स्थित हैं। आम तौर पर सूर्य व मंगल जब कुंडली में अच्छी स्थिति में होते हैं, तो इस क्षेत्र में फायदा देखने को मिलता है।

ग्रहों की वर्तमान स्थिति
स्वतंत्र भारत की कुंडली में वर्तमान में जन्म के मंगल के ऊपर से सकारात्मक ग्रह गुरू गुज़र रहा है, जो इस क्षेत्र में स्थिरता कायम रखेगा। यह स्थिति बाज़ार को टूटने नहीं देती। लेकिन दूसरी ओर शनि और राहु जैसे नकारात्मक ग्रह जन्म के गुरू के ऊपर से गुज़र रहे हैं।

निष्कर्ष और समयावधि
फिलहाल, गणेश जी को इस क्षेत्र में किसी भी बदलाव की संभावना नज़र नहीं आ रही। लेकिन गणेश जी कहते हैं कि 19/01/2014 से 19/05/2014 के बीच में करेक्शन आने की संभावना है। कीमतें कुछ हद तक कम हो सकती है। यह भारत की कुंडली में राहु, मंगल और शनि के दूषित होने की वजह से हो सकता है। यह गणना सारे पारगमन और दशाओं को ध्यान में रखते हुए की गयी है। कुल मिला कर अगर आप निवेशक हैं तो आप इस समय की और मार्केट के गिरने की राह देख सकते हैं, ऐसी गणेश जी की सलाह है।

गणेश जी कृपा से ,
धर्मेश जोशी
गणेशास्पिक्स टीम
 

19 Nov 2013


View All blogs

More Articles