कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-शनि संयोजन की महत्ता


Share on :


वैदिक ज्योतिषी के अनुसार सूर्य-शनि संयोजन सबसे भयानक संयोजनों में से एक माना जाता है। क्योंकि सूर्य और शनि एक दूसरे के कटु शत्रु हैं। सामान्य तौर पर, यह संयोजन जातकों के लिए बुरा माना जाता है। सूर्य ग्रहों का राजा है। यह हमारी आत्मा का प्रतिनिधित्व करता है। यह हमें सम्मान, मान्यता, शक्ति और अधिकार देता है। दूसरी ओर, शनि अनुशासन, कड़ी मेहनत, और ढाँचागत निर्माण का प्रतीक है। अब चूँकि ये दोनों ग्रह आपस में शत्रु हैं, इसलिए ये एक दूसरे के अच्छे प्रभावों पर हावी हो जाते हैं, और इस प्रतिस्पर्धा में सूर्य शनि से अधिक पीड़ित होते हैं। इस प्रकार, जिन लोगों की कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-शनि संयोजन होता है, उन्हें करियर में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। वे अपने पिता या पुत्र के साथ तनावपूर्ण संबंधों का सामना कर सकते हैं। इसके अलावा, जातक न्यून आत्मविश्वासी हो सकते हैं। क्योंकि सूर्य आग से भरा है, और शनि शीतल और आर्द्र है, इसलिए यह एक बहुत ही असामान्य संयोजन है, जो अवगुणों का अधिक और गुणों के कम होने का कारण बनता है।

प्रथम भाव में सूर्य-शनि संयोजन के कारण प्रभावित क्षेत्र

पेशेवर प्रदर्शन
रिश्ते और संबंध
शैक्षणिक योग्यता
जीवन के प्रति दृष्टिकोण

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-शनि संयोजन विलंब के बावजूद जीवन सफलता ला सकता है। यह व्यक्ति को विकसित होने में सक्षम बनाता है, और इस तरह के जातक स्व-निर्मित व्यक्ति होते हैं। वे अच्छी तरह से परिपक्व और उत्तर दायित्वों के प्रति के प्रति सतर्क होते हैं। सूर्य-शनि युति वाले जातकों के कई शत्रु हो सकते हैं, लेकिन वे जनता के बीच लोकप्रिय होते हैं। ऐसे जातक आध्यात्मिक रूप से प्रवृत्त हो सकते हैं, और धार्मिक भी। कहा जाता है, कि इन्हें कर्म की परीक्षा पास करनी पड़ती है, अगर वे ऐसा करने में सक्षम होते हैं, तो फिर जीवन में भी अच्छा कर सकते हैं। क्या आप भी वर्ष 2020 में कुछ अच्छा कर पाएंगे? जानने के लिए प्राप्त करें अपना व्यक्तिगत राशिफल 2020!


कुंडली के पहले भाव में सूर्य-शनि का संयोजन वाले जातक रसायन विज्ञान और धातु विज्ञान के विषयों में अच्छे होते हैं। ये अभियांत्रिकी की कुछ शाखाओं में भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। सूर्य और शनि का संयुक्त प्रभाव उन्हें कुछ निश्चित शिक्षाविदों और व्यवसायों में अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम बनाता है।

नकारात्मक लक्षण/प्रभाव

शनि सूर्य का पुत्र है। दोनों ग्रहों के बीच एक बहुत ही असहज संबंध है। एक पिता और पुत्र के बीच इस तरह के शत्रुतापूर्ण संबंध होना काफी असामान्य है। लेकिन सूर्य और शनि के मामले में यह बिल्कुल सच है। ऐसा माना जाता है, कि इस तरह के ग्रह संयोजन में, या तो पिता या पुत्र, दोनों में से कोई एक ही जीवन की प्रगति में सक्षम होते हैं। जब उनमें से एक प्रगति करता है, तो दूसरा पीड़ित होता है। यदि पिता प्रगति करता है, तो पुत्र दुखी रहता है, और यदि पुत्र आगे बढ़ता है, तो पिता संकट में रहता है। जिससे टकराव होता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य-शनि संयोजन के कारण जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी ऐसा ही होता है। लेकिन ज्योतिष की सहायता से हम जीवन की हर समस्या का समाधान प्राप्त कर सकते हैं। तो आज ही अपनी जन्मपत्री प्राप्त करें और समस्याओं से छुटकारा पाएं।


सूर्य शनि का यह संयोजन किसी भी व्यक्ति के जीवन में वैवाहिक संबंधों और संयुग्मित ख़ुशी को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। जिसका कारण है, इन दोनों ग्रहों के ऊर्जा विन्यास का पूर्ण रूप से अलग होना। एक ओर सूर्य है, जो मानव ब्रह्मांड का केंद्र है, एक बल जो जीवन देता है, और जीवन निर्वाह करता है, एक पुरुषोचित ग्रह जो जीवन शक्ति का प्रतीक है। दूसरी ओर शनि है, जो स्त्रियोचित ग्रह है, जो दुःख और पीड़ा देता है।

सूर्य-शनि संयोजन में यदि सूर्य पीड़ित होता है, तो सूर्य जातक को कम आत्मसम्मान और कम जीवन शक्ति के साथ अनिर्णायक बना देगा। जिससे व्यक्ति उदास और तनाव ग्रस्त हो सकता है, और उसका मन भयभीत और भ्रमित हो सकता है।

निष्कर्ष

इस प्रकार, हम देख सकते हैं, कि कुंडली के प्रथम भाव में यह सूर्य-शनि संयोजन कितना महत्वपूर्ण हो सकता है। चूँकि ये दोनो ग्रह (सूर्य और शनि) परस्पर विरोधी हैं, इसलिए यह जीवन में दुर्जेय समस्याएं और कठिनाइयाँ पैदा कर सकता है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं, कि यह जीवन का अंत है। हर चुनौती में, एक अवसर छुपा होता है। इसलिए सूर्य-शनि की युति में भी है। क्योंकि जीवन में जो कठिनाइयाँ आती हैं, वे हमें सिखाती हैं, और यदि इसे सही दृष्टिकोण से देखें तो ये हमे आगे भी बढ़ाती हैं।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

17 Feb 2020


View All blogs

More Articles