कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति संयोजन की महत्ता


Share on :


वैदिक ज्योतिष में सूर्य और बृहस्पति का संयोग अत्यधिक शुभ संयोजनों में से एक माना जाता है। सूर्य और बृहस्पति दोनों पुरुष प्रधान प्रकृति वाले, और एक दूसरे के मित्र भी हैं। बृहस्पति, जातक को आध्यात्मिक और नैतिक बनाते हैं, तो सूर्य उन्हें सरकारी विभागों या एक निजी क्षेत्र की कंपनी में एक प्रमुख स्थान ग्रहण करने लायक बनाते हैं। जिन जातकों की कुंडली में यह संयोजन होता है, वे धनी होते हैं, और मान्यता व प्रसिद्धि का आनंद लेते हैं।

प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति के संयोजन के कारण प्रभावित क्षेत्र

व्यक्तित्व
रिश्ते और संबंध
पेशा और कैरियर
शारीरिक रंग रूप

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति संयोजन के कारण जातक शारीरिक रूप से दिखने में सुन्दर होते हैं। जो गौर वर्ण और चुंबकीय व्यक्तित्व वाले होते हैं। वे निर्मित काया व ऊचें लंबे कद वाले होते हैं। ऐसे जातक एक अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेते हैं।

इसके अलावा, प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति संयोग वाले जातक बहुत सारे महान गुणों से संपन्न होते हैं। वे बहुत समझदार, ज्ञानी (अधिक आध्यात्मिक), बुद्धिमान, प्रतिबद्ध, कर्तव्यपरायण, दयालु, उदार, कूटनीतिक और पूरी तरह से धार्मिक प्रवर्ति के होते हैं। कुंडली के पहले भाव में सूर्य-बृहस्पति की युति के अनुसार जरुरत पड़ने पर दूसरों की ज़रूरतों और इच्छाओं को पूरा करने के लिए वे अपनी ज़रूरतों का भी आसानी से त्याग कर सकते हैं।

उनके लिए सबसे अधिक अनुकूल कार्य अध्यापन, न्यायपालिका, बैंकिंग, वित्त आदि क्षेत्रों से जुड़े होते हैं। इसके अलावा, जिन लोगों की कुंडली में यह संयोग होता है, सूर्य बृहस्पति वैदिक ज्योतिष के अनुसार उनके पास कई प्रकार के कौशल होते हैं। यदि आपको भी अनुकूल करियर की तलाश है, तो समाधान हमारे पास है।


कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति संयोजन वाले जातक उच्च स्वाभिमान वाले होते हैं। वे अपने काम में प्रभुत्व रखते हैं। ये एक प्रमुख बनाना पसंद करते हैं, और दूसरों से सम्मान और श्रद्धा की अपेक्षा रखते हैं। इसके साथ ही ये थोड़े आलसी भी हो सकते हैं।

ऐसे जातकों में अच्छा प्रशासनिक कौशल होता है। जहां भी आवश्यक हो, उन्हें सरकारी अधिकारियों से सहायता और समर्थन मिलता है। वे एक बहुत अच्छे सलाहकार या परामर्शदाता भी हो सकते हैं। वे गलत करने वालों को सजा दिलवाना भी पसंद करते हैं। वे स्वाभाविक नेता होते हैं। वे एक धार्मिक सामाजिक व्यवस्था स्थापित करने के उत्साह से परिपूर्ण होते हैं।

सूर्य और बृहस्पति का संयोग जातक को आशावाद से भर देता है। यह एक जातक के व्यक्तित्व को बहुत ही शक्तिशाली बना सकता है, बशर्ते दोनों में से कोई भी ग्रह कुंडली में दुर्बल न हो। जैसा कि हम सभी जानते हैं, सकारात्मक होना ही समग्र सकारात्मकता को जोड़ता है, इसलिए इन लोगों का स्वाभाविक आशावाद उन्हें कई तरह से मदद करता है।

प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति संयोजन के कारण जातक स्वयं को सबसे सुन्दर दिखाने की चेष्टा रखते हैं। वे अपने स्त्री या पुरुष होने की परवाह किये बिना आभूषण या गहने धारण करना पसंद कर सकते हैं। इसके अलावा, इनमें सोने के सामान, बर्तन और विभिन्न प्रकार के महंगे आभूषणों को इकट्ठा करने की भी लालसा हो सकती है।

चूँकि बृहस्पति, सूर्य के महत्व को कई गुना बढ़ा देता है। इस प्रकार, सूर्य के सभी महान गुणों को इस ग्रह संयोजन से विस्तारित किया जा सकता है। जिससे जातक अपने नेतृत्व गुणों में समृद्ध हो सकता है, या उसकी ऊर्जा का अधिक विस्तार हो सकता है।

नकारात्मक लक्षण/प्रभाव

यदि सूर्य-बृहस्पति संयोजन पीड़ित होता है, तो जातक संतान संबंधी (बच्चे के जन्म की समस्या) मामलों में कठिनाइयों का सामना कर सकते हैं। जिन महिलाओं की कुंडली में यह संयोजन होता है, उन्हें शादी में देरी या समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप भी कर रहे हैं ,विवाह में देरी या अन्य समस्याओं का सामना तो जानें उपाय!


कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य-बृहस्पति संयोजन वाले जातक सच्चे और ईमानदार होने के प्रति अधिक संलग्न नहीं होते। वे अपनी ही रुचियों में अधिक ध्यान देते हैं, या फिर उन लोगों पर जिनके लिए वे प्रतिबद्ध हैं।

निष्कर्ष

बृहस्पति, जातक को आध्यात्मिक और नैतिक बनाता है। सूर्य व्यक्ति को ऊंचाई और शक्ति प्रदान कर सकता है। इस प्रकार, यह संयोजन एक बहुत ही मजबूत व्यक्तित्व का कारण बन सकता है, जिसमें ऊंचाई और गहराई दोनो होती हैं। हालाँकि, निश्चित स्थितियों में, जातक कुछ समस्याओं का सामना कर सकते हैं, जैसे एक निःसंतान दंपत्ति के लिए बच्चों को जन्म देना कठिन हो सकता है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!
गणेशजी की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

17 Feb 2020


View All blogs

More Articles