सुब्रता रॉय के लिए जुलाई 2014 तक चुनौतीपूर्ण समय


Share on :

गणेशजी की भविष्यवाणी – जुलाई 2014 तक सहारा के मालिक सुब्रता रॉय के लिए कठिन समय
सुब्रता रॉय

बिजनस ग्रुप सहारा इंडिया भारतीय उद्योग में अपनी अलग पहचान रखता है, जो वित्तीय सेवाएं, बुनियादी ढांचे और आवास निर्माण, मीडिया, मनोरंजन, खुदरा व्यापार, विनिर्माण और सूचना प्रौद्योगिकी में अपना कारोबार संचालित करता है। यह समूह भारतीय क्रिकेट टीम का प्रमुख प्रायोजक रहा है, लेकिन आईपीएल टीम पुणे वारियर्स को लेकर बीसीसीआई के साथ हुए विवाद के कारण क्रिकेट टीम की स्पॉन्सरशिप से अपना हाथ खींच लिया। जहां भारतीय राष्ट्रीय हॉकी टीम का प्रायोजक है, वहीं फार्मूला वन की फोर्स इंडिया फार्मूला वन टीम में 42.5% स्टेक है। अन्य दूसरे कारोबार में लोनावाला के समीप मुम्बई पुणे एक्सप्रेस हाईवे पर अम्बी वैली सिटी है, जो लगभग 10,600 एकड़ में फैली हुई है। हालांकि कंपनी एवं उसके स्वामि सुब्रता रॉय अकसर विवादों में रहे हैं। वर्तमान में सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रता रॉय पर देश छोड़ने पर प्रतिबंध लगाया है, खासकर तब तक जब तक वह सेबी के साथ 20000 करोड़ की संपत्ति का विवाद नहीं सुलझते हैं।



भविष्य में सुब्रता रॉय व उसके कारोबार की क्या संभावनाएं – क्या यह विवाद उनकी निजी व कंपनी की छवि को धुंधला करेगा – गणेशजी ने ज्योतिष वैदिक की मदद से इस सवाल का जवाब देने की कोशिश है।

ज्योतिषीय विशेषताएं

सुब्रता रॉय की सूर्य कुंडली में अशुभ ग्रह जैसे कि केतु छठे घर में स्थित है, जबकि राहु अदालत व संबंधित मामलों के घर में है। नतीजन, उनको समय समय पर अदालती दिक्कतों का सामना करना होगा। शुभ ग्रह गुरू व बुध, उनकी कुंडली में स्वगृही हैं। गणेशजी देखते हैं कि वह प्रतिगामी हैं एवं इसलिए वह उनकी कुंडली को पर्याप्त सहायता नहीं कर पा रहे हैं। यह तत्व निश्चित रूप से उनके खिलाफ काम करता है। असल में, यह नकारात्मक ग्रहों को नकारात्मक फैलाने की अनुमति देते हैं।

आगे क्या –

वर्तमान में शनि जन्म के केतु के ऊपर से पारगमन कर रहे हैं जबकि पारगमन करता केतु जन्म के राहु से गुजर रहा है। वहीं दूसरी ओर, पारगमन करता गुरू जन्म के बुध, शुक्र व चंद्र की युति से गुजर रहा है। गणेशजी भविष्यवाणी करते हैं कि सुब्रता रॉय को कानून संबंधित मामलों का सामना लगभग जुलाई 2014 तक करना होगा।

हालांकि इस बीच, वह अपनी समस्यायों का हल ढूंढ़ने में सफल रहेंगे। ग्रहीय हलचल संकेत कर रही है कि अगला डेढ़ साल की समय अवधि उनके लिए बेहतर है।

अगर कुछ विशेष एहतियात बरतने वाले समय की बात करें तो 03/03/2014 से 25/03/2014तक का समय सुब्रता रॉय के लिए काफी नकारत्मक है, इसलिए इनको इस समय संयम रखना जरूरी है परन्तु साथ में जन्म के बुध-शुक्र-चन्द्र के ऊपर से बृहस्पति का परिभ्रमण कुछ ने कुछ हल जरूर निकलेगा, उसके बाद 14/04/2014 से 15/05/2014 वापिस सूर्य मेष राशि से परिभ्रमण करेगा, जहां उनका जन्म का केतु बिराजमान है, यहां भी उनको थोड़ा सा संभालना होगा।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
धर्मेश जोशी
गणेशास्पीक्स टीम

01 Mar 2014


View All blogs

More Articles