मणिक

GaneshaSpeaks.com

भारतीय नाम – मणिक

गुणवत्ता
एसजी – 4.00 । आरआई – 1.76 – 1.77 । कठोरता – 9 ।

मणिक का इंग्लिश नाम रूबी लतिन शब्द रबर से आया है, जिसका अर्थ लाल होता है।

क्रोमियम तत्व की मौजूदगी के कारण मणिक रत्न का रंग लाल होता है। मणिक रत्न को भी नीलम, पन्ना एवं हीरे के साथ महत्वपूर्ण व बेश्कीमती रत्नों की श्रेणी में शामिल किया जाता है। लाल रंग जोश, प्रेम, सत्ता एवं उत्साह का प्रतिनिधित्व करता है। मणिक जुलाई जन्म रत्न से संबद्घ है। इसलिए मणिक रत्न को १५वीं एवं ४० वैवाहिक वर्षगांठ के अवसर पर उपहार के रूप में देने की परंपरा है एवं सुखद जीवन की कामना की जाती है।

रंग उपलब्धता – मणिक लाल रंग के विविध रूपों में उपलब्ध है। मणिक का रंग क्रोमियम एवं लोहे की मात्रा पर निर्भर करता है। इस लाल रंग के खूबसूरत रत्न को रत्न को रत्नों का राजा भी कहा जाता है। इस रत्न में कठोरता, दिलकश रंग एवं मनमोहक काया सब कुछ उपलब्ध है, जो इसको बेश्कीमती रत्न बनाता है। मणिक बड़े आकार में काफी कम मिलता है। हालांकि, इसका भाव हीरे के मुकाबले काफी अधिक है।

क्या आप जानते हैं – विश्व में सबसे उत्तम मणिक रत्न म्यांमार का माना गया है।

प्राचीन काल से मणिक को इलाज व रक्षा हेतु ताबीज के रूप में इस्तेमाल किया जाता है । लोगों का मानना था कि जमीन पर यदि मणिक का स्वच्छ पाउडर है, तो उसको अपनी जीभ पर रखने से रक्त व हृदय संबंधित विकार दूर होते हैं। इसके अलावा युद्घ के दौरान स्वयं की प्राण रक्षा के लिए मणिक को धारण किया जाता था। हिंदु एवं यूनानी धर्म के लोग मानते हैं कि पत्थर में आग की मौजूदगी के कारण मणिक का रंग लाल है। इस रत्न को धारण करने से भाग्योदय होता है एवं बुद्घि तेज होती है।

भारतीय चिकित्सा विज्ञान आयुर्वेद बहुत सारी दवाओं एवं सप्लीमेंट्स बनाने के लिए मणिक भस्म का इस्तेमाल करता है। संस्कृति में मणिक का उल्लेख है एवं इसको हिंदु समाज रत्नराज के नाम से भी पुकारता है अर्थात रत्नों का राजा। इस को बाइबल में भी एक बेश्कीमत एवं महत्वपूर्ण रत्न माना गया है।

प्राचीन कथा के अनुसार दानव राजा रावण की मृत्यु के बाद उसका रक्त मणिक पर गिरा, जिसके कारण मणिक का रंग अति लाल हो गया। अमेरिकी नागरिक मानते हैं कि मणिक को धारण करने से व्यक्ति अपने खोए हुए राजपाट को पुनःप्राप्त कर सकता है।

इसमें दो राय नहीं कि मणिक सबसे अच्छे रत्नों में से एक है, लेकिन इसको धारण करने से पूर्व आप किसी ज्योतिष विशेषज्ञ से बात करें एवं अपनी कुंडली का अध्ययन करवाएं। यदि आपके पास अधिक समय नहीं है एवं आप बहुत अधिक व्यस्त रहते हैं तो आपको हमारी सलाह है कि आप ज्योतिषी से बात कीजिए। आपको घर बैठे हर समस्या का समाधान प्राप्त हो सकता है। इसके अलावा यदि आपके प्रेम जीवन में किसी प्रकार की दिक्कत या परेशानी है तो आप निःसंकोच व्यक्तिगत समाधान प्रेम के लिए रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं, जो आपको शत प्रतिशत संतुष्टि प्रदान करेगी।

राशि – सिंह । ग्रह – सूर्य । दिन – रविवार ।

जन्म कुंडली के अनुकूल मणिक पहनने के लाभ –

  • मणिक धारण करने से प्रेम, जोश, अच्छे स्वास्थ्य एवं जुनून को प्रोत्साहन मिलता है।
  • अवसाद की समाप्ति होती है।
  • बिंदास एवं उत्साही बनाता है।
  • लोकप्रियता का ग्राफ बढ़ता है।
  • दिमागी बुखार, टाइफाइड, लू लगने, पित्ते की समस्यायों से राहत प्रदान करता है।
  • नकसीर, हृदय घनास्त्रता आदि रोगों से रक्षा प्रदान करता है।

स्रोत – भूरा लाल मणिक थाइलैंड में पाया जाता है, जबकि अफगानिस्तान, पाकिस्तान एवं वियतनाम में चमकीला लाल मणिक पाया जाता है। भारत, नार्थ केरोलिना यूएसए, रूस, ऑस्ट्रेलिया एवं नोर्वे में गाढ़ा लाल मणिक पाया जाता है। इसके अलावा त्रुटि रहित मणिक म्यांमार में पाया जाता है, जिसकी कीमत बहुत अधिक होती है।

इसके अलावा म्यांमार का सबसे बड़ा मणिक रत्न वाशिंगटन में स्मिथसोनियन के राष्ट्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में है, जो कि २३.१ कैरेट का है, इसको कार्मेन लुसिया रूबी कहा जाता है, जो प्लेटिनम रिंग में जड़ा हुआ है एवं यह एक व्यापारी पीटर बक ने अपनी स्वर्गीय पत्नि कार्मेन लुसिया की याद में दान किया था।

रोचक तथ्य – विश्व का सबसे बड़ा मणिक राजरत्न मणि के नाम से प्रसिद्घ है, जिसका वजन 2,475 कैरेट है।

सावधान! अन्य उत्पादों की तरह रत्न के भी नकली रूप बाजार में उपलब्ध हैं। इसलिए रत्न खरीदते समय आप काफी सतर्क रहें। यदि संभव हो तो अपने विश्वसनीय स्थल से रत्न को प्राप्त करें। यदि आप चाहें तो हमारे यहां से भी प्रामाणिक रत्न प्राप्त कर सकते हैं, जो आपको शत प्रतिशत सकारात्मक लाभ प्रदान करेगा।