दूधिया पत्थर (ओपल)

GaneshaSpeaks.com

नाम – दूधिया पत्थर का इंग्लिश नाम ओपल लैटिन भाषा के ओपलुस से आया है, जिसका अर्थ ‘गहने सा’ है। एक अन्य जानकारी के अनुसार ओपल शब्द संस्कृति शब्द उपल से आया है, जिसका अर्थ होता है कीमती पत्थर।

भारतीय – दूधिया पत्थर (ओपल)

रचना – जानकारी के अनुसार ओपल एक प्रकार का धातु से बना जैल है जो निम्न तापमान पर किसी भी प्रकार की चट्टान की दरारों में एकत्र हो जाता है। इसको आमतौर पर चूना पत्थर, बलुआ पत्थर, आग्नेय चट्टान, मार्ल और बेसाल्ट के बीच पाया जा सकता है।

स्रोत – ओपल का सबसे बड़ा उत्पादक ऑस्ट्रेलिया है। इस देश में दुनिया का लगभग 97% ओपल पैदा होता है। इसके अलावा चेकोस्लोवाकिया, अमेरिका, ब्राजील, मैक्सिको और दक्षिणी अफ्रीका में भी ओपल का उत्पादन होता है। इसके अलावा वर्ष २००८ में नासा ने मंगल ग्रह पर ओपल के मिलने की घोषणा की थी।

रंग उपलब्धता – ओपल रत्न मूल रूप से रंगरहित होता है, लेकिन इस तरह का उच्च गुणवत्ता वाला रत्न बहुत दुर्लभता से मिलता है। इसके अलावा कुछ अशुद्घियों के कारण ओपल अलग अलग हलके रंगों में पाया जाता है। आयरन आक्साइड के कारण लाल रंग एवं मैंगनीज आक्साइड और जैविक कार्बन के कारण काले रंग में उपलब्ध है। इसके अलावा अन्य रंगों में भी उपलब्ध है।

गुण
एसजी – 2.10 । आरआई – 1.37-1.47 । कठोरता – 6 ।

दूधिया में उच्च विशिष्ट गुरुत्व है, इसलिए उसी आकार के साधारण पत्थर की तुलना में अधिक भारी होता है।

ज्योतिषीय निर्देश
राशि – तुला। ग्रह – शुक्र । दिन – शुक्र ।

यदि आप सुंदर दूधिया पत्थर धारण करना चाहते हैं तो आपको किसी ज्योतिषविद की सलाह लेनी चाहिए। यदि आपके पास किसी ज्योतिषविद से मिलने का समय नहीं है तो घबराने की जरूरत नहीं क्योंकि गणेशास्पीक्स आपकी सुविधा के लिए टेलीफोन सेवा भी उपलब्ध है। यदि आपको अनुकूल लगे तो ज्योतिषी से बात कीजिए। इस सेवा की मदद से आप अपने अनुकूल रत्न को धारण कर अपने जीवन को सुखद बना सकते हैं।

दूधिया पत्थर को पहनने से निम्नलिखित लाभ मिलते हैं -ः

  • वित्तीय स्थिति में सुधार होता है।
  • यौन शक्ति बढ़ती है।
  • काल्पनिक रचनात्मक शक्ति में वृद्घि होती है।
  • अच्छा एकाग्रता और मानसिक शांति को बढ़ावा देता है।
  • शारीरिक तंदरुस्ती प्रदान करता है एवं बुरे स्वप्न को दूर रखता है।
  • व्यक्ति को सफलता, लोकप्रियता एवं मान सम्मान दिलाता है।

अगर आप पहले से ही जानते हैं कि आपके लिए यह रत्न अनुकूल है एवं आप इसको खरीदना चाहते हैं तो आप हमारे यहां से प्रामाणिक, शत प्रतिशत असली एवं अच्छी गुणवत्ता वाला ओपल रत्न खरीद सकते हैं।

रोचक तथ्य – एक अनुमान के अनुसार लगभग ओपल रत्न ६० मीलियन वर्ष पुराने हैं, जब डायनासोर धरती पर घूमा करते थे।