ज्योतिषी से बात कीजिए
X

वृषभ राशि के प्रेमव्यवहार

वृषभ राशि के प्रेमव्यवहार

तत्व :
पृथ्वी

गुण :
स्थिर; स्त्रीत्व;नकारात्मक

स्वामी ग्रह :
शुक्र

प्यार में देने वाले सबक :
प्यार में एकता, सामग्री सुरक्षा जाल बनाने की क्षमता है

प्यार में सीखने वाले सबक :
लचीलापन, माफ करने की क्षमता, एक अच्छा श्रोता होने की कला

व्यक्तिव :
वृषभ राशि के जातक स्वस्थ और दिव्यता लिए होते हैं इन्हे बहुतो का प्यार और प्रशंसा मिलती है | फ़िर भी कभी-कभी ये अपना जिद्दी स्वभाव, गुस्सा और अचानक अघोषित बदमिजाजी व्यवहार प्रदर्शित करते हैं | इन पर अक्सर चिपकू और कंजूस होने का आरोप लगाया जाता है | इन्हे परिवर्तन पसंद नहीं आता हैं ये स्थायित्व चाहते हैं | सुख का अनुभव इनके लिए महत्वपूर्ण हैं |इनके अन्दर उत्साही एक बच्चा छिपा रहता हैं ये स्पर्श, गंध और स्वाद के जरिए खुशी पाना चाहते हैं | वृषभ राशि के जातक सौंदर्यशास्त्र पर गहरी नजर रखते है, और खाने के प्रति प्रबल प्रेमी होते हैं | ये भाग्यवान और लापरवाह होते हैं | ये अपने नाराजगी और क्रोध के लिए प्रसिद्ध हैं | जब ये गुस्सा हो तो उनसे दूर रहना ही अच्छा है|

मेष राशि के लिए प्यार :
प्यार इनकी दृष्टि में मौलिक, शारीरिक, दृष्टिक स्नेह भावना हैं | वृषभ राशि के लिए प्यार सुखद होता है और जब इसकी जरुरत हो ये उनके लिए हमेशा उपलब्ध रहना चाहिए हैं | गहरे प्रेम का अवचेतन पहलू इन्हे समझ में नहीं आता है | इनके प्रेम की परिभाषा बहुत सरल है | ये बहुत दृढ़ और वफादार होते है | ये आराम और सुरक्षा को महत्व देते हैं, और जो लोग इन्हे यह उपलब्ध कराते हैं उनके ओर ये आकर्षित होते हैं | ये जिसे प्यार करते हैं उस पर पूरा अधिकार चाहते हैं | अपनी इच्छाओं – क्रोध, हठ, निर्भरता, ईर्ष्या की वजह से इनकी बात बिगड़ जाती हैं |

प्रेम आचरण :
वृषभ राशि के जातक समर्पित प्रेमी होते हैं और अपने प्यार को उपहारों और भेंट के द्वारा जाहिर करने में विश्वास करते हैं | प्यार को प्रदर्शित करने की कोशिश में ये प्यार की गहराई को बता नहीं पाते हैं जिससे इनके प्रेमी को खालीपन का एहसास होता हैं | इनका मतलब यह नहीं होता हैं पर ये प्यार की यही परिभाषा जानते हैं |ये नियमित रुप से अपना प्यार उपहारों के जरिए जताते हैं और चाहते हैं कि उनका प्रेमी इसे पहचाने | ये निर्विवाद प्रेमी होते है और बदले में भी ये यही चाहते हैं |बहुत ज्यादा तो नहीं कम से कम ईमानदारी और समर्पण तो चाहते ही चाहते हैं |पारंपरिक और बदलाव न चाहने वाले वृषभ राशि के जातक स्थिर होते है और सबंधो में भी इनका यही गुण अभिलक्षित होता है |इनके अन्दर का शिशु इन्हे निर्भर और चिपकु बनाता है |प्यार में अस्वीकृति और धोखा घड़ी इन्हे पसंद नहीं हैं |

वृषभ साप्ताहिक राशिफल – 04-12-2016 – 10-12-2016

सुसंगतता

अग्नि तत्व की राशियाँ
भूमि तत्व की राशियाँ
वायु तत्व की राशियाँ

वृषभ राशि के बारे में जानिए

संस्कृत नाम : वृषभ | नाम का अर्थ : बैल | प्रकार : पृथ्वी स्थिर नकारात्मक | स्वामि ग्रह : शुक्र | भग्यशाली रंग : नीला, नीला-हरा | भाग्यशाली दिन : शुक्रवार, सोमवार