ज्योतिषी से बात कीजिए
X

मेष – मेष अनुकूलता

मेष – मेष अनुकूलता

मेष- मेष की अनुकूलता
नवजात शिशु का प्रतिनिधित्व करने वाली इस राशि में वे लोग आते हैं जो बहादुर सेनानी हैं। गोपनीयता इनके लिए अतिआवश्यक चीज है और वे अपनी पहचान छुपाकर रखना चाहते हैं। उर्जा से परिपूर्ण मेष राशिवाले अपनी आतंरिक क्षमता के बल पर अपना काम बढ़ाते हैं। इस राशि के जातक अपने व्यक्तिगत रिश्तों में बहिर्मुखी और ईमानदार होते हैं। दूसरों को दुःख पहुंचाने की प्रवृत्ति होने के कारण मेष राशि वाले भूल जाने या क्षमा करने में बहुत धीमे होते हैं।

मेष राशि के महिला और पुरुष के बीच अनुकूलता
मेष राशिवाले स्वतंत्रता का लक्षण दिखाते हैं, उन्हें प्रभुत्व और नियंत्रण से घृणा है। वे समझदार होते हैं। दोनों ही भाग में हावी होने पर वे एक बाधा के रूप में काम कर सकते हैं। उनका अहं उन्हें सकारात्मक आलोचना से रोकेगा। उन्हें एक साथ काम करने के लिए सामंजस्य सुनिश्चित करना चाहिए। मेष राशि के दो व्यक्तियों के बीच एक रिश्ते की अनुकूलता एक दूसरे की स्वतंत्रता के सम्मान पर निर्भर करता है।

सुसंगतता

अग्नि तत्व की राशियाँ

मेष व्यवसाय और करियर

यह सप्ताह

नौकरी में लगे लोग अपनी तर्क शक्ति के बदौलत प्रगति कर सकेंगे। वरिष्ठ अधिकारियों के सहयोग से नई जवाबदारियां प्राप्त होगी। वेतन में वृद्धि के आसार बनेंगे। हालांकि, सहकर्मियों के साथ व्यवहार में अंकुश रखना होगा। बैंकिग, शिक्षा,…

मेष प्रेम और संबंध

यह सप्ताह

प्रेम संबंधों में कमजोर शुरूआत होने के बाद वीकेंड में आप को सुख का एहसास होगा। शुरुआत के समय में आप अपने परिवार की ओर ध्यान दे सकेंगे। सप्ताह के मध्य में विशेषकर पंचम स्थान में राहु और बुध के साथ चंद्र के आने से संबंधों में नीरसता…

मेष धन और वित्त

यह सप्ताह

सप्ताह के शुरूआत में आपको आकस्मिक खर्चों के लिए तैयार रहना पड़ेगा। परिवारजनों या संतान के लिए खर्च करने की आवश्यकता पड़ सकती है। शेयर बाजार में किसी प्रकार के निवेश के समय शुभ नहीं है, इसलिए उतावली में कोई भी निर्णय नहीं लें।…

मेष शिक्षा और ज्ञान

यह सप्ताह

सप्ताह की शुरूआत में आपको धार्मिक मामलों में अधिक रूचि रहेगी। धार्मिक विषयों के अध्ययन, गूढ़ व रहस्यमयी विद्याओं, कर्मकांडों से संबंधित ज्ञान में बढ़ोत्तरी होने की संभावना है। सप्ताह के मध्य में आपके पंचम स्थान में चंद्र के…

मेष स्वास्थ्य

यह सप्ताह

स्वास्थ्य कल्याण की बात करें तो आपको बहुत अधिक सतर्कता बरतनी होगी। षष्ठ भाव में विद्यमान सूर्य व राहु और अष्टम भाव में शनि महाराज के कारण समस्याओं से दो चार होना पड़ सकता है। डायबिटीज, मोटापें, नाक, प्रजनन अंगों से संबंधित…

आवधिक भविष्यवाणी